तीन देशों की विदेश यात्रा पर आज रवाना होंगे पीएम मोदी, पढ़िए पूरा कार्यक्रम

0
682

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज तीन देशों की विदेश यात्रा पर रवाना होंगे। फिलिस्तीन, यूएइ और ओमान की यह यात्रा चार दिन की होगी। पीएम की यात्रा के दौरान भारत और खाड़ी देशों के बीच व्यापार, निवेश, सुरक्षा, आतंकवाद के खिलाफ सहयोग, ऊर्जा समेत कई महत्वपूर्ण द्विपक्षीय संबंधों पर जोर दिया जाएगा। पीएम की यह यात्रा नौ फरवरी से 12 फरवरी तक होगी।

प्रधानमंत्री 10 फरवरी को फिलिस्तीन के रामल्ला पहुंचेंगे। जहां वे सबसे पहले दिवंगत यासर अराफात संग्रहालय भी जाएंगे और वहां पुष्पांजलि अर्पित करेंगे। उसके बाद पीएम मोदी का फिलिस्तीनी के राष्ट्रपति महमूद अब्बास से मिलेंगे। साथ ही वहां के नेतृत्व के साथ आपसी संबंधों के विभिन्न आयामों पर भी चर्चा होगी। प्रधानमंत्री के रामल्ला की यात्रा के दौरान भारत और फिलिस्तीन के बीच पांच-छह अहम समझौतों पर हस्ताक्षर किए जाने की संभावना है। गौरतलब है कि भारत इजरायल के बढ़ते सहयोग के साथ ही फिलिस्तीन के साथ भी संबंधों को मजबूत और संतुलित करना चाहता है। हाल ही में इजरायल के पीएम बेंजामिन नेतन्याहु ने भारत की छह दिवसीय यात्रा की थी। उससे पहले मोदी भी इजरायल यात्रा पर गए थे, लेकिन फिलिस्तीन नहीं पहुंचे थे। विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि फिलिस्तीन के मुद्दे पर भारत ने विभिन्न पहल की हैं।

वहीं,10 फरवरी को देर शाम मोदी संयुक्त अरब अमीरात (यूएइ) पहुंचेंगे और दुबई में छठे वर्ल्ड गवर्नमेंट शिखर सम्मेलन को संबोधित करेंगे। वे इस सम्मेलन में ‘विकास के लिए प्रौद्योगिकी’ विषय पर संबोधन देंगे।

ये पीएम मोदी की दूसरी यूएइ की यात्रा है। अगस्त, 2015 में उन्होंने पहली बार प्रधानमंत्री के रूप में यूएइ का दौरा किया था। तब से लेकर अब तक दोनों देशों के बीच संबंध और मजबूत हुए हैं। वहीं पिछले साल गणतंत्र दिवस समारोह में यूएइ के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन जायेद अल नहयान मुख्य अतिथि थे।

पीएम मोदी अबू धाबी के क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नहयान के साथ भी बातचीत करेंगे। कुमार ने कहा कि भारत और संयुक्त अरब अमीरात ने 2017 में व्यापक रणनीतिक साझेदारी समझौते पर हस्ताक्षर किए थे और इस संबंध में वह सम्बद्ध होगा। विदेश मंत्रालय से मिला जानकारी के मुताबिक कि 11 फरवरी को प्रधानमंत्री यूएई के शहीद सैनिकों के स्मारक जाएंगे। यहां वे एक सामुदायिक कार्यक्रम में भी हिस्सा लेंगे। उनका वहां एक मंदिर की आधारशिकाल रखने का भी कार्यक्रम है। प्रधानमंत्री की यूएइ यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच व्यापार, निवेश एवं ऊर्जा के क्षेत्र में सहयोग को मजबूत बनाने पर चर्चा होगी।

भारत के कुल द्विपक्षीय कारोबार में यूएई समेत छह खाड़ी देशों की बड़ी हिस्सेदारी है। कुमार ने कहा कि खाड़ी सहयोग परिषद (जीसीसी) के छह देशों (सऊदी अरब, कुवैत, संयुक्त अरब अमीरात, कतर, बहरीन और ओमान) के राजनीतिक और आर्थिक गठबंधन में भारत के व्यापार का 20 प्रतिशत हिस्सा है। इन देशों के साथ कुल तेल आयात का करीब 50 प्रतिशत हिस्सा है और 60-65 प्रतिशत एलएनजी में भी इन देशों की बड़ी हिस्सेदारी है। कुमार ने बताया 90 लाख भारतीय खाड़ी में रहते हैं और प्रेषण के मामले में हर साल 35 अरब डॉलर भेजते हैं। भारत का पहला सामरिक तेल रिजर्व संयुक्त अरब अमीरात की मदद से मैंगलोर में शुरू हो रहा है और इसकी क्षमता 5.86 मिलियन बैरल होगी।

11 फरवरी को मोदी ओमान के लिए रवाना होंगे। 12 फरवरी को वे ओमान के सीईओ के समूह के साथ चर्चा करेंगे। वहीं शिव मंदिर भी जाएंगे। प्रधानमंत्री वहां के दो उप प्रधानमंत्रियों के साथ मुलाकात करेंगे। भारत और ओमान के बीच काफी करीबी सामरिक संबंध है। दोनों देशों की सेनाओं के बीच अभ्यास भी हुए हैं। ओमान हमारे जहाजों को सुविधाएं प्रदान करता है, साथ ही हमारे हवाई जहाजों को रिफ्यूलिंग की सुविधा भी प्रदान करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.