उत्तराखंड CM के फ्लीट से नाराज हुए अार्मी अफसर; हेलिकॉप्टर की लैंडिंग रोकने हेलिपैड पर ड्रम रखवाए

0
445

देहरादून.उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से सेना के जनरल ऑफिसर कमांडिंग (जेओसी) इस कदर नाराज हुए कि उनके हेलिकॉप्टर की लैंडिंग रोकने के लिए हेलिपैड पर ड्रम रखवा दिए। इसके चलते पायलट ने मजबूरन दूसरी जगह लैंडिंग कराई। इस पर सीएम ने नाराजगी जताते हुए कहा कि ये सेना की निजी जमीन नहीं, बल्कि देश की जमीन है। रावत के चीफ सिक्युरिटी ऑफिसर ने भी कैंट थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई है।
फ्लीट के रास्ते से गाड़ी हटाने की बात पर गुस्सा हो गए थे जीओसी
– सोमवार को सीएम रावत को हेलिकॉप्टर से उत्तरकाशी जिले के सांवणी गांव रवाना होना था। यहां उन्हें अग्निकांड पीड़ितों को आर्थिक मदद देनी थी। इसके लिए सीएम के हेलिकॉप्टर को देहरादून कैंट स्थित जीटीसी हेलिपैड से रवाना होना था और उत्तरकाशी में जखोल के टेम्परेरी हेलिपैड पर उतरना था।
– सीएम के चीफ सिक्युरिटी ऑफिसर के मुताबिक, दोपहर को सीएम की फ्लीट जीटीसी हेलिपैड जा रही थी, तो जीओसी सब-एरिया देहरादून मेजर जनरल जेएस यादव ने अपना प्राइवेट व्हीकल लाकर फ्लीट के आगे रोक दिया।
– सीओ सिटी और थानाध्यक्ष कैंट ने उन्हें बताया कि सीएम रावत की फ्लीट आ रही है, इसलिए गाड़ी किनारे कर लीजिए। इस पर जीओसी भड़क गए और अपनी गाड़ी हटाने से मना कर दिया।
क्या कहना था जीओसी का?
– सीओ सिटी और थानाध्यक्ष कैंट को धमकाते हुए जीओसी ने कहा कि ये हमारा (सेना का) एरिया है और यहां हमारी मर्जी से ही लोग आ-जा सकते हैं। जीओसी ने कहा कि यहां से आगे पुलिसवाले नहीं जा सकते। वो अपनी गाड़ियों के साथ बाहर ही रहेंगे। हालांकि, इसके बाद उन्होंने सीएम की गाड़ी को जाने के लिए जगह दे दी। इसके बाद सीएम हेलिपैड से उत्तरकाशी रवाना हो गए।
लैंडिंग के वक्त पायलट ने ड्रम देख बदली लैंडिग लाेकेशन
– दोपहर साढ़े तीन बजे जब सीएम वापस लौटे तो हेलिकॉप्टर की लैंडिंग जीटीसी हेलिपैड पर ही होनी थी। तभी कुछ जवानों ने हेलिपैड पर दो ड्रम लाकर रख दिए, ताकि हेलिकॉप्टर लैंड ना हो सके। जब हेलिकॉप्टर लैंड करने के लिए नीचे उतर रहा था, तब पायलट को ये ड्रम दिखे। पायलट ने सूझबूझ से काम लेते हुए दूसरी जगह लैंडिंग कराई।
क्या कहना है जेओसी का?
– जीओसी मेजर जनरल यादव का कहना है कि मामले को जिस तरह से पेश किया जा रहा है, वैसा नहीं है। पुलिस पूरे मामले से वाफिफ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.