मानव तस्करी मामला : दलेर मेहंदी को 2 साल की कैद की सजा, जमानत भी मिली

0
431

नई दिल्ली: गायक दलेर मेहंदी को 2003 के कबूतरबाजी मामले में पंजाब की पटियाला कोर्ट ने दोषी पाया है. उनको दो साल कैद की सजा सुनाई गई है. लेकिन अदालत ने उनको जमानत भी दे दी है. आपको बता दें कि दलेर मेहंदी और उनके भाई शमशेर सिंह पर आरोप था कि प्रशासन को धोखे में रखकर कुछ लोगों को अपनी टीम के साथ विदेश ले गए थे. इसके लिए उन्होंने काफी रकम भी वसूली थी.

वह 1998 और 1999 में दो बार अमेरिका गए थे. इस दौरान वो 10 लोगों को अमेरिका ले गए थे और वहीं छोड़ दिया. जिसमें वह एक बार एक अभिनेत्री के साथ गए थे और उनके साथ तीन लड़कियां भी गई थीं. जो वहीं रुक गईं. इसके बाद 1999 में दोनों भाई अमेरिका गए और वहां तीन लड़कों को छोड़ आए.

दलेर मेहंदी का करियर
दलेर मेहंदी का जन्म 18 अगस्त, 1967 को पटना में हुआ और उनका असली नाम दलेर सिंह है. दलेर मेहंदी ने 1991 में अपना ग्रुप बनाया था. मैग्नासाउंड ने दलेर मेहंदी को ‘बोलो ता रा रा’ एल्बम के साथ बेहतरीन ढंग से डेब्यू किया था और इस एल्बम की दो करोड़ कॉपी बिकी थीं. इस एल्बम से वे पॉप स्टार बन गए. उसके बाद उनकी एल्बम ‘डरदी रब रब’ आई और इसने तो उनकी पहली एल्बम की कामयाबी को भी पीछे छोड़ दिया. ‘मृत्युदाता’ फिल्म में वे अमिताभ बच्चन के साथ नजर आए और उनके लिए ‘ना ना ना रे’ गाना कम्पोज किया.

यह गाना सुपरहिट रहा. प्रियंका चोपड़ा उनके सॉन्ग ‘सजन मेरे सतरंगिया’ में नजर आ चुकी हैं. 2001 में दलेक मेहंदी बॉलीवुड में हाथ आजमाने लगे. उन्होंने ‘मकबूल’ फिल्म का ‘रू-ब-रू’ गाना गया और य काफी पसंद भी किया गया. दलेर मेहंदी का ‘रंग दे बसंती (2006)’ का टाइटल सॉन्ग ‘रंग दे बसंती’ उनके सबसे ज्यादा हिट सॉन्ग में से है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.