भारत की सरकारी वेबसाइट्स को ब्लॉक कर रहा है पाकिस्तान

0
384

सचिन पाराशर, नई दिल्ली
भारत-पाकिस्तान के बीच राजनयिक विवाद कम होने के कोई आसार नजर नहीं आ रहे हैं। सरकारी अधिकारियों के मुताबिक, पाकिस्तान ने मई 2017 से gov.in डोमेन वाली सभी भारत सरकार की वेबसाइट्स को ब्लॉक कर दिया है। इसके अलावा अगले महीने नई दिल्ली में होने जा रही WTO मीटिंग से भी पाकिस्तान ने अपने पांव खींच लिए हैं।सरकारी सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तान में भारत सरकार की वेबसाइट्स नहीं खुल रही हैं। इसके बाद सरकार ने 5 बार डिप्लोमैटिक चैनल के जरिए इस बारे में पाकिस्तान को कहा है कि भारत सरकार की किसी भी वेबसाइट्स को ब्लॉक नहीं किया जाए। इस मामले में पहली बार पाकिस्तान को 18 मई 2017 में नोटिस दिया गया था जबकि आखिरी नोटिस इस हफ्ते दिया गया है। भारतीय अधिकारियों के मुताबिक, पाकिस्तान ने ऐसा इसलिए किया है ताकि वहां स्थित भारतीय राजनयिक और अधिकारी अपनी ही सरकारी वेबसाइट्स को नहीं देख सकें।पाकिस्तान में ऐसे हो रहा है भारतीय राजनयिकों का उत्पीड़न इसके अलावा पाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग के पास भी ऐसी ढेरों शिकायतें आई हैं जिनमें कहा गया है कि पाकिस्तानी नागरिक वेबसाइट के जरिए वीज़ा फॉर्म डाउनलोड नहीं कर पा रहे हैं। एक भारतीय अधिकारी ने बताया, ‘पाकिस्तान में ऐसे एजेंट्स की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हुई है जो प्रॉक्सी सर्वर के जरिए वहां के नागरिकों को वीज़ा फॉर्म भरवाने में मदद कर रहे हैं।’ अधिकारियों के मुताबिक, पाकिस्तान के इस कदम से वहां स्थित भारतीय मिशन को काम करने में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।राजनयिक सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तान ने 19-20 मार्च को दिल्ली में होने वाली WTO मिनिस्टीरियल मीटिंग में भी शामिल नहीं होने का फैसला किया है जिससे हालिया राजनयिक विवाद और बढ़ सकता है। इस बैठक के लिए भारत ने पाकिस्तान के वाणिज्य मंत्री परवेज मलिक को न्योता भेजा था। पहले मलिक ने इस मीटिंग में शामिल होने के लिए अपनी सहमति दी थी।पाक ने भारत में अपने उच्चायुक्त को बैठक के लिए वापस बुलाया राजनयिक विवाद पर भारत ने शुक्रवार को कहा है कि उसने पाकिस्तान को भारतीय अधिकारियों को परेशान किए जाने को लेकर पिछले कुछ दिनों में 7-8 बार नोटिस दिया है। इसके जवाब में पाकिस्तान ने भी यह आरोप लगाए हैं कि भारत में उसके राजनयिकों की कारों का पीछा किया जा रहा है। पाकिस्तान का आरोप है कि भारत में अपने परिवार के साथ जा रहे उसके राजनयिक की कार का पीछा किया गया है। राजनयिकों को परेशान किए जाने के मुद्दे पर पिछले कुछ हफ्तों में भारत और पाकिस्तान के बीच आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला बढ़ता ही जा रहा है। इस मामले पर बातचीत के लिए पाकिस्तान ने अपने हाई कमिश्नर सोहेल महमूद को भी बुलाया था।
एक तरफ भारतीय अधिकारियों का कहना है कि पाकिस्तान द्वारा लगाए गए सभी आरोपों की जांच की जाएगी, वहीं इस्लामाबाद का कहना है कि भारत ने उसके सभी आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है। पाकिस्तान का आरोप है कि भारत में उसके अधिकारियों का पीछा और परेशान किए जाने के मामलों में पिछले कुछ हफ्तो में तेजी बढ़ोतरी हुई है। पाकिस्तान ने अपने हालिया नोटिस में कहा है कि इस मामले को भारतीय विदेश सचिव विजय गोखले के संज्ञान में भी लाया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.