PM के सीधे संवाद के लिए NCC ने कैडेट्स के कॉन्टैक्ट डेटा इकट्ठे किए, कांग्रेस नेता ने उठाए सवाल

0
319

नई दिल्ली
नैशनल कैडेट कोर (NCC) की तरफ से अपने कैडेट्स को प्रधानमंत्री मोदी के ऑफिशल ‘नरेंद्र मोदी ऐप’ डाउनलोड करने के निर्देश पर विवाद बढ़ सकता है। दरअसल NCC ने कैडेट्स के मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी जैसे डेटा इकट्ठा किया है। विपक्षी दल अब सरकार पर कैडेट्स के डेटा का राजनीतिक हितों के लिए इस्तेमाल का आरोप लगा रहे हैं। कांग्रेस नेता रम्या ने तो ट्वीट कर लोगों से नमो ऐप हटाने की अपील की है।
दरअसल हमारे सहयोगी अखबार मुंबई मिरर ने पिछले महीने खबर दी थी कि एनसीसी ने स्कूलों और कॉलेजों से कहा है कि वे कैडेट्स से ‘नरेंद्र मोदी ऐप’ डाउनलोड कराएं और उनके मोबाइल नंबर व ईमेल आईडी उपलब्ध कराएं क्योंकि प्रधानमंत्री मोदी सीधे कैडेट्स से मुखातिब होना चाहते हैं।फेसबुक डेटा लीक और कैंब्रिज एनालिटिका पर फेसबुक डेटा का अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव व भारत में भी कुछ चुनावों को प्रभावित करने के आरोपों के बीच NCC के निर्देश का मुद्दा गरमा सकता है।
(NCC यूनिट द्वारा स्कूलों/कॉलेजों को भेजा गया खत)
एनसीसी ने राज्यों के स्कूलों और कॉलेजों को जो निर्देश दिया है उसमें बताया गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मार्च में ‘मोदी ऐप’ के जरिए कैडेट्स से मुखातिब होंगे। हालांकि पीएम किस तारीख को कैडेट्स से मुखातिब होंगे, इसका खत में कोई जिक्र नहीं है। मुंबई मिरर की 28 फरवरी की रिपोर्ट के मुताबिक एनसीसी के महाराष्ट्र नवल यूनिट के कमांडिंग ऑफिसर कैप्टन वी.के. शुक्ला की तरफ से 26 फरवरी को महाराष्ट्र के स्कूल-कॉलेजों को जारी किए गए निर्देश में कैडेट्स के नाम, मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी जैसे डीटेल मांगे गए हैं। मुंबई मिरर की रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र किया गया था कि शिक्षाशास्त्रियों ने एनसीसी के इस निर्देश पर ऐतराज जताया है। शिक्षाशास्त्रियों के मुताबिक लाखों कैडेट्स के कॉन्टैक्ट डीटेल इकट्ठा कर सरकार इनका राजनीतिक फायदे के लिए इस्तेमाल कर सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.