सुशील मोदी का नया आरोप- टाटा स्टील की सम्पत्ति के भी मालिक तेजस्वी

0
578

बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने तेजस्वी यादव और लालू परिवार पर नया आरोप लगाते हुए कहा है कि तेजस्वी टाटा स्टील कंपनी की संपत्ति के भी मालिक हैं।
पटना । बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने तेजस्वी यादव एवं लालू परिवार पर नया आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने फेयरग्रो होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड नामक फर्जी कम्पनी का मुखौटे के रूप में इस्तेमाल कर टाटा आयरन एंड स्टील कम्पनी की पटना शहर के अत्यंत पोस इलाके 5, राइडिंग रोड, पटना में दो मंजिला मकान सहित जमीन के मालिक बन बैठे।आयकर विभाग ने तेजस्वी यादव की जिस सम्पत्ति को नौ फरवरी को जब्त किया है वह सम्पत्ति टाटा कम्पनी की थी। 30 अक्टूबर 2002 को टाटा आयरन एंड स्टील कम्पनी लि0 के 7105 वर्गफुट जमीन (5.22 कट्ठा) में निर्मित 5348 वर्गफुट के दो मंजिला मकान को फर्जी कम्पनी जिसके निदेशक तेजस्वी सहित लालू परिवार ने खरीदा हुआ दिखलाया है।1990 से 2000 तक संयुक्त बिहार के दौरान और उसके बाद के वर्षो तक यह टाटा कम्पनी का दफ्तर तथा गेस्ट हाउस हुआ करता था। लालू-राबड़ी के शासन काल में टाटा कम्पनी को अनेक प्रकार से उपकृत किया जाता रहा।
लालू की बेटियों का नामांकन भी टाटा के कोटे से हुआ
तेजस्वी का ट्वीट, सुशील मोदी बताएं नीतीश उन्हें छोड़ेंगे या वो नीतीश को…
लालू परिवार की बड़ी बेटी मीसा भारती का नामांकन योग्यता के आधार पर नहीं बल्कि टाटा कम्पनी के कोटे से टाटा मेडिकल कॉलेज जमशेदपुर में हुआ था। इतना ही नहीं तो लालू प्रसाद की एक और बेटी रोहिणी आचार्य एवं लालू के कबाब मंत्री अनवर अहमद की बेटी का नामांकन भी टाटा मेडिकल कॉलेज में 1998 ई0 में टाटा कोटे की सीट पर कराया गया था।और तो और लालू प्रसाद के अत्यंत विश्वस्त अलकतरा घोटाले के आरोपी इलियास हुसैन की बेटी आसमा का नामांकन भी टाटा मेडिकल कॉलेज में टाटा कोटे से कराया गया।
सुशील मोदी का सवाल….
-टाटा कम्पनी ने एक फर्जी कम्पनी को ही अपनी सम्पत्ति क्यों बेची ?
-आखिर टाटा कम्पनी ने औने-पौने भाव पर एक बंद पड़ी कम्पनी की सम्पत्ति क्यों बेची ?
डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने तेजस्वी से पूछा सवाल-फेयरग्रो का डिटेल्स दीजिए
-झारखंड बनने के मात्र दो वर्षो के भीतर राबड़ी देवी के मुख्यमंत्रित्व काल में ही क्यों टाटा कम्पनी ने अपनी सम्पत्ति बेच दी ?
-10 वर्षो के बाद इस फर्जी कम्पनी सहित टाटा कम्पनी के मकान के मालिक तेजस्वी एवं लालू परिवार कैसे हो गए?
1990 से 2000 तक लालू राबड़ी के 10वर्षो के शासनकाल में टाटा कम्पनी पर किए गए उपकार के बदले टाटा स्टील ने प्रेम चन्द्र गुप्ता के लोगों की कम्पनी फेयरग्रो को अपनी सम्पत्ति लिख दी और कुछ वर्षो के बाद डिलाइट मार्केटिंग की ही तरह तेजस्वी इस कम्पनी की सम्पत्ति के भी मालिक बन बैठे।
सवाल यह है कि राजेश कुमार कौन है जिसने लालू परिवार के लिए 65 लाख का भुगतान किया ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.