पाक की नापाक गोलाबारी जारी, एक जवान व पांच बच्चों समेत 21 घायल; पलायन को लोग मजबूर

0
262

तान की गोलाबारी से जम्मू संभाग के कठुआ, सांबा व जम्मू जिले दहल गए हैं।

जम्मू (राज्य ब्यूरो)। सीमांत क्षेत्रों में पाकिस्तान की ओर से लगातार हो रही गोलाबारी में मंगलवार को सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के एक जवान व पांच बच्चों समेत 21 लोग घायल हो गए। पाकिस्तान की गोलाबारी से जम्मू संभाग के कठुआ, सांबा व जम्मू जिले दहल गए हैं। सीमा के पांच किलोमीटर के दायरे में आने वाले स्कूल कई दिन से बंद हैं। वहीं, बीएसएफ की जवाबी कार्रवाई में मंगलवार को पाकिस्तान के चार रेंजर्स के गंभीर रूप से घायल होने की सूचना है। बीएसएफ ने जम्मू के अरनिया व सांबा के रामगढ़ में सटीक कार्रवाई करते हुए पाकिस्तान की तीन चौकियों को भी तबाह कर दिया। गोलाबारी के दौरान पाकिस्तान के सियालकोट सेक्टर में चार रेंजर्स को एंबुलेंस में ले जाते देखा गया है।i0uमंगलवार शाम सात बजे पाकिस्तान ने सांबा जिले के रामगढ़ के केसों मन्हास व नंगा इलाकों में गोले दाग कर पांच बच्चों समेत 13 लोगों को घायल कर दिया। इससे पहले दिन में पाक गोलाबारी में कठुआ के हीरानगर में बीएसएफ जवान समेत दो, जम्मू जिले के आरएसपुरा में चार व जिले के अरनिया में दो लोग जख्मी हो गए थे।रविवार को दिन में शांति की अपील करने के बाद से पाकिस्तान रुक-रुक कर गोलाबारी कर रहा है। सोमवार रात नौ बजे फिर सांबा के रामगढ़ व जम्मू के अरनिया में गोलाबारी शुरू कर दी। रात ग्यारह बजे के बाद पाकिस्तान ने कठुआ जिले के हीरानगर व जम्मू जिले के आरएसपुरा की दो दर्जन से अधिक चौकियों व सवा सौ गांवों को निशाना बनाकर गोले दागने शुरू कर दिए। मंगलवार सुबह 11 बजे हीरानगर के पानसर में पाकिस्तान की गोलाबारी का जवाब दे रहे बीएसएफ की 97वीं बटालियन के जवान चौहान सिंह घायल हो गए। शाम साढ़े बजे पाकिस्तान ने फिर गोले दागने शुरू कर दिए। इसमें कैसों मन्हासा में एक गोला राजकुमार के घर पर गिरा, जिसमें उसकी पत्नी विमला देवी व दो बच्चे धीरज (10) व अमनदीप (14) घायल हो गए। इसके अलावा सात अन्य लोग जख्मी हो गए हैं।
बीएसएफ के दो जवान सहित अब तक सात लोगों की मौत
सीमा पर 14 मई से पाकिस्तान की ओर से की जा रही गोलाबारी में अब तक बीएसएफ के दो जवान सहित सात लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 41 लोग घायल हुए हैं। बीएसएफ की कड़ी जवाबी कार्रवाई में सीमा पार भी भारी नुकसान हुआ है। अब तक पाकिस्तान के एक रेंजर समेत सात लोगों के मारे जाने की सूचना है।
बिश्नाह व आरएसपुरा में राहत शिविर
जम्मू के अतरिक्त जिलाधीश अरुण मन्हास ने बताया कि गोलाबारी से घरों व मवेशियों को हुए नुकसान का आकलन किया जा रहा है। सीमांत वासियों के लिए बिश्नाह व आरएसपुरा में राहत शिविर बनाए गए हैं। शिविरों में शरण लेने वाले परिवारों को हर प्रकार की सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है।
एक लाख से अधिक लोग प्रभावितजम्मू-कश्मीर में इस समय एक लाख से अधिक लोग गोलाबारी से प्रभावित हैं। जम्मू जिले में ही 70 हजार से अधिक लोग गोलाबारी के कारण पलायन को मजबूर हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.