शिलांग : कर्फ्यू के बाद भी हिंसा जारी, एसपी पर रॉड से हमला

0
604

शिलांग के कुछ हिस्सों में शनिवार को दूसरे दिन भी कर्फ्यू जारी रहा। यहां रात भर चली हिंसा के दौरान उग्र भीड़ ने एक दुकान और एक मकान को आग के हवाले कर दिया और कम से कम पांच वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया। इस हिंसा में एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी भी घायल हो गया।
ड्यूटी पर मौजूद एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि पुलिस अधीक्षक (शहर) स्टीफन रिंजा पर एक रॉड से वार किया गया जिसके बाद उन्हें शिलांग सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया। हिंसा में पुलिसकर्मी समेत कम से कम 10 लोग घायल हो गए जिसके बाद इलाके में कथित तौर पर अवैध रूप से रह रहे लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग उठने लगी। वहीं शहर के अशांत मोटफ्रन इलाके में पत्थरबाजों ने राज्य पुलिसकर्मियों पर हमला किया।
अधिकारी ने बताया कि दंगाईयों को हटाने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े गए लेकिन दूसरे हिस्से के लोगों ने इसे पुलिस की गोलीबारी समझ लिया। बृहस्पतिवार को थेम मेटोर इलाके में स्थानीय लोगों के एक समूह ने बस के एक सहायक से कथित तौर पर मारपीट की थी जिसके बाद झड़प शुरू हो गई थी।
अधिकारियों ने बताया कि इस झड़प ने तब और उग्र रूप ले लिया जब सोशल मीडिया पर यह अफवाह फैलाई गई कि घायल सहायक की मौत हो गई जिससे थेम मेटोर में बस चालकों का समूह इकट्ठा हो गया। भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े। बस सहायक और तीन अन्य घायलों को अस्पताल ले जाया गया और प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। पूर्वी खासी हिल्स के जिला अधिकारियों ने बताया कि कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए पूरे शहर में कल रात 10 बजे से सुबह के पांच बजे तक कर्फ्यू लगाया गया।
उन्होंने बताया कि तीन स्थानीय लड़कों के साथ हुई मारपीट में शामिल एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और उसके साथियों की तलाश की जा रही है। अफवाहों को रोकने के लिए इंटरनेट सेवाओं को आज भी निलंबित रखा गया है। राज्य सरकार इसपर आज दोपहर तक फैसला लेगी। जिले के उपायुक्त पीएस दकहर ने बताया कि लुमदियेंगज्री पुलिस थाना और कैंटोनमेंट बीट हाउस क्षेत्र के तहत आने वाले 14 इलाकों में कल सुबह चार बजे से लगाया गया कर्फ्यू अब भी जारी है।
मुख्यमंत्री कोनराड के संगमा ने कल एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की। उन्होंने लोगों से शांति बनाए रखने और शिलांग में स्थिति सामान्य बनाने की अपील की। इस बीच खासी छात्र संघ (केएसयू), फेडरेशन ऑफ खासी जयंतिया एंड गारो पीपुल (एफकेजेजीपी) और हनीट्रेप यूथ काउंसिल ने स्थानीय लड़कों के साथ मारपीट में शामिल लोगों को सजा दिलाने और थेम मेटोर में अवैध रूप से रह रहे लोगों को हटाने की मांग की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.