जो पार्टी आंध्र को विशेष दर्जा का वादा करेगी उसका करेंगे समर्थन- जगनमोहन रेड्डी

0
438

दिवंगत नेता वाई.एस. राजशेखर रेड्डी के बेटे और वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष वाईएस जगनमोहन रेड्डी राज्य में अपनी पैदल यात्रा के जरिए सड़क से सत्ता तक पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसे समय में जब एक साल से भी कम का वक्त आंध्र प्रदेश के चुनाव में बचा है, जगनमोहन अब तक 200 दिनों की पदयात्रा कर चुके हैं।अपनी इस यात्रा के दौरान जगन ने यह स्पष्ट किया कि वे किसी भी राजनीतिक पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करेंगे चाहे वो राज्य का कोई दल हो या फिर या राष्ट्रीय स्तर का। उन्होंने इंटरव्यू में श्रीनिवास राव अप्पारासु को यह बताया कि वे 2019 के चुनाव में केन्द्र में उस पार्टी या मोर्चा का समर्थन करेंगे जो लिखित तौर पर आंध्र प्रदेश की विशेष राज्य का दर्जा देने का वादा करेंगे।सवाल- आपने 200 दिनों की पदयात्रा पूरी की है। इसमें 2400 किलोमीटर का सफर तय किया है। इस दौरान आपने क्या महसूस किया?जवाब- हर दिन मेरे लिए नया अनुभव होता है। रोज अपने अनुभव से बहुत कुछ सीखता हूं। चेहरे बदल सकते हैं लेकिन लोगों की दुर्दशा हर जगह एक जैसी है। किसान परेशान है क्योंकि उन्हें पिछले चार वर्षों से लाभकारी कीमतें नहीं मिली है। वे लगातार ऋण के बोझ तले दबते जा रहे हैं। बेरोजगारी बढ़ती जा रही है और अर्थव्यवस्था चरमरा गई है।जवाब- कई तरह की समस्याएं देखी है और वे सभी आदमी के जरिए ही पैदा किए गए हैं, इसके लिए नायडू सरकार के शासन को धन्यवाद देता हूं। उन्होंने यह वादा किया था कि किसानों के सभी फसली ऋण 87,612 करोड़ रूपये के माफ किए जाएंगे। लेकिन, पिछले चार वर्षों के दौरान उन्होंने औसत रूप से सालाना 3,000 करोड़ रूपये ही माफ किए हैं।वे इस नारे के साथ सत्ता में आए थे कि सभी बेरोजगार लोगों को नौकरी देंगे। लेकिन, न ही उन्होंने नौकरी दी और ना ही बेरोजगारों को भत्ता दिया।
जवाब- ये सारे मुद्दे एक साथ रहेंगे। पिछली बार, हम 1.5 फीसदी वोट से सत्ता में आते-आते रह गए। इसकी वजह नायडू का झूवा वादा करना, उनका ये दावा करना कि वे अनुभवी नेता हैं, पवन कल्याण फैक्टर और मोदी लहर। लेकिन, आज परिस्थिति बिल्कुल अलग है। जनता नायडू के झूठ को जान गई है और दो पहिए पवन कल्याण और बीजेपी उनकी साइकल से अलग हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.