भोपाल फिर हुआ शर्मसार, मूक बधिर छात्राओं ने हॉस्टल संचालक पर लगाया रेप का आरोप

0
347

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में एक बार फिर मूक बधिर छात्र-छात्राओं के साथ यौन शोषण का मामला सामने आया है. मामले के आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार आधी रात तक पुलिस थाने का घेराव किया, जिसके बाद देर रात दो आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया.

यह घटना सामने आने के बाद भोपाल फिर शर्मसार है. इस बार यौन शोषण का आरोप भोपाल के बैरागढ़ स्थित साईं विकलांग अनाथ आश्रम के हॉस्टल संचालक पर लगा है. यहां रहने वाले मूक बधिर छात्रों और छात्राओं ने अनाथ आश्रम संचालक पर अप्राकृतिक कृत्य के साथ-साथ यौन शोषण के आरोप लगाए हैं. हॉस्टल संचालक पर तीन छात्र और दो छात्राओं ने यौन शोषण और अप्राकृतिक कृत्य करने का आरोप लगाया है.

भोपाल में पिछले दिनों मूक बधिर छात्राओं के साथ रेप के मामले सामने आने के बाद ये दो मूक-बधिर लड़कियां और तीन लड़के सामाजिक न्याय विभाग पहुंचे हैं. इन्होंने हॉस्टल संचालक पर लम्बे समय से दुष्कर्म और शारीरिक प्रताड़ना का आरोप लगाया. छात्राओं ने हॉस्टल संचालक एमपी अवस्थी पर जहां दुष्कर्म के आरोप लगाए, वहीं लड़कों ने लम्बे समय से शारीरिक प्रताड़ना व अप्राकृतिक कृत्य के आरोप लगाए.

इन छात्र-छात्राओं ने साइन लैंग्वेज में सामाजिक न्याय विभाग के अधिकारियों को पूरी आपबीती सुनाई, जिसके बाद ये छात्र थाने पहुंचे. इस बीच कांग्रेस मीडिया प्रभारी शोभा ओझा और कुछ कांग्रेस कार्यकर्ता भी थाने पहुंच गए. इसके बाद कांग्रेसियों ने देर रात करीब 12 बजे तक टीटी नगर थाने का घेराव किया.

शुक्रवार देर रात आरोपी संचालक एमपी अवस्थी के खिलाफ आईपीसी की धारा 377, 376, 354, 506, 34 के तहत मामला दर्ज किया गया. इस मामले में दो आरोपी एमपी अवस्थी और कविता चौधरी को गिरफ्तार कर आगे की कार्रवाई की जा रही है. वहीं, इस मामले को उठाने वाली कांग्रेस की मीडिया प्रभारी शोभा ओझा ने सरकार को कठघरे में खड़ा कर दिया है.

शोभा के मुताबिक पिछले साल भी एक बच्ची ने सामाजिक न्याय विभाग को शिकायत की थी, लेकिन शिकायत दबा दी गई. इसके बाद उसने होशंगाबाद कलेक्टर से शिकायत की और जांच में उसकी शिकायत सही पाई गई. इस घटना के बाद विकलांग केंद्र को ब्लैकलिस्ट कर दिया गया.

आरोपी संचालक एमपी अवस्थी के होशंगाबाद और बैरागढ़ में दो हॉस्टल हैं. आरोपी के बैरागढ़ में हॉस्टल को सामाजिक न्याय विभाग से ग्रांट मिलता है, जो यह दर्शाता है कि आरोपी कितना रसूखदार है. छात्रों के मुताबिक आरोपी हॉस्टल संचालक साल 2010 से अलग-अलग छात्रों को दरिंदगी का शिकार बनाता आ रहा था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.