जुबान से नहीं, बैट से बोलना पसंद करते हैं चेज: स्टुअर्ट लॉ

0
214

हैदराबाद टेस्ट में अपने शतक से 2 रन दूर खड़े रोस्टन चेज ने भारतीय गेंदबाजों के लिए एक चुनौती पेश कर दी है। इससे पहले सीरीज के पहले मैच में वेस्ट इंडीज की करारी हार के बाद माना जा रहा था कि दूसरे टेस्ट में भी टीम इंडिया को लिए कैरिबियाई टीम के 20 उखाड़ने में ज्यादा मुश्किल नहीं होगी। एक छोर से भारतीय बोलरों ने यह काम शुरू भी कर दिया था, लेकिन जब रोस्टन ने मोर्चा संभाला, तो फिर वह वेस्ट इंडीज के पक्ष में चीजें दिखने लगीं।

इससे पहले वेस्ट इंडीज के टॉप 5 बल्लेबाज कोई खास नहीं छोड़ पाए। मेहमान टीम ने 113 रन तक पहुंचते-पहुंचते अपने 5 विकेट गंवा दिए थे। लेकिन छठे नंबर पाए आए चेज ने पहले शने डोरविक के साथ मिलकर 69 रन की साझेदारी निभाई और फिर अपने कप्तान के साथ मिलकर 104 रन की साझेदारी बनाकर मेहमान टीम को 300 के पार पहुंचा दिया। यहां जैसन होल्डर चेज का साथ छोड़ गए।

चेज की इस अविजित पारी से वेस्ट इंडीज खेमे के कोच स्टुअर्ट लॉ बेहद खुश हैं। चेज की इस पारी ने किंग्स्टन 2016 में जड़ा उनका शतक याद दिला दिया है। तब भारत के ही खिलाफ उन्होंने शतक जमाया था और 137 रन की नाबाद पारी खेलने वाले चेज ने तब भी पूरे दिन कमान संभाली थी।

लॉ के मुताबिक चेज गहरी सोच वाले व्यक्ति हैं, जो बहुत ज्यादा नहीं बोलते। हालांकि वेस्ट इंडीज की टीम खुश ही होगी कि वह जुबान से नहीं, तो कम से कम बैट से तो शानदार जवाब देते हैं।

लॉ ने चेज की इस बैटिंग पर गदगद होते हुए कहा, ‘चेज को भारतीय बोलिंग अटैक खूब रास आता है। चेज के 98* की बदौलत भारत कुछ हद तक दबाव में ही होगा और यह दबाव इसलिए भी बढ़ा होगा क्योंकि इस मैच से अपना डेब्यू कर रहे शार्दुल ठाकुर भी चोटिल होकर मैदान से बाहर ही हैं। इससे टीम में बाकी बचे तेजगेंदबाज पर अतिरिक्त दबाव होगा। चेज को अभी भी अपना धैर्य दिखाना होगा, उन्होंने मैच के पहले दिन शानदार काम किया है, लेकिन अभी उनकी जिम्मेदारी खत्म नहीं हुई है और उन्हें मैच के दूसरे दिन भी इसे सही अंजाम तक पहुंचाना होगा।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.