1971 में 2000 पाकिस्‍तानी सैनिकों को खदेड़ने वाले ‘बॉर्डर’ के असल हीरो ब्रिगेडियर कुलदीप का निधन

0
351

नई दिल्‍ली/चंडीगढ़ : 1971 की लोंगेवाला की ऐतिहासिक लड़ाई के नायक रहे और महावीर चक्र विजेता ब्रिगेडियर कुलदीप सिंह चांदपुरी का मोहाली के एक निजी अस्पताल में शनिवार को निधन हो गया. उनके परिवार ने बताया कि वह 78 साल के थे. वह कैंसर से ग्रस्त थे. उनके परिवार में पत्नी और तीन बेटे हैं. वर्ष 1997 में आई हिंदी फिल्मी ‘बॉर्डर’ राजस्थान में भारत-पाकिस्तान लड़ाई पर बनी थी. उसमें सनी देओल ने ब्रिगेडियर चांदपुरी की भूमिका निभाई थी. ब्रिगेडियर चांदपुरी महावीरचक्र विजेता थे.

लोंगेवाला की लड़ाई 1971 में भारत पाकिस्तान युद्ध के दौरान पश्चिमी सेक्टर में हुई पहली बड़ी लड़ाइयों में एक थी. यह राजस्थान के थार रेगिस्‍तान में लोंगेवाला की भारतीय सीमा चौकी पर हमलावर पाकिस्तानी सैनिकों और भारतीय सैनिकों के बीच लड़ी गई थी.

भारतीय सेना की 23वीं बटालियन में मेजर कुलदीप सिंह चांदपुरी की कमान वाली पंजाब रेजीमेंट के पास दो विकल्प थे कि या तो वह और जवानों के आने तक पाकिस्तानी दुश्मनों को रोकने की कोशिश करे या भाग जाए. इस रेजीमेंट ने पहला विकल्प चुना और चांदपुरी ने यह पक्का किया कि सैनिकों और साजो समान का अच्छे से अच्छा इस्तेमाल किया जाए. उन्होंने अपने मजबूत बचाव की स्थिति का अधिक इस्तेमाल किया तथा दुश्मन की गलतियों का फायदा उठाया.

उनकी बटालियन में 120 जवान थे. जबकि पाकिस्‍तानी सैनिकों की संख्‍या 2000-3000 थी. इसके बावजूद चांदपुरी ने पाकिस्‍तानी फौज का सामना अपने जवानों के साथ किया. उन्‍होंने जवानों में उत्‍साह उत्‍पन्‍न किया, उनमें जोश भरा. सभी ने रात भर पाकिस्‍तानी फौज का सामना किया और सुबह भारतीस वायुसेना भी मदद के लिए पहुंच गई थी. इसका नतीजा यह हुआ कि पाकिस्‍तान को इस युद्ध करारी हार मिली और लोंगेवाला पोस्‍ट भारत के पास ही रही.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.