केजरीवाल पर मिर्च पाउडर फेकने के मामले में ‘आप’ ने BJP को ठहराया जिम्मेदार, कही यह बात…

0
185

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर दिल्ली सचिवालय में मिर्च पाउडर से हमला हुआ है. दिल्ली सचिवालय में मुख्यमंत्री के चेंबर के बाहर अरविंद केजरीवाल पर अनिल कुमार नाम के शख्स ने उनपर लाल मिर्च पाउडर फेंका. आम आदमी पार्टी (AAP) ने इस हमले को ‘राजनीति से प्रेरित’ बताया है. अधिकारियों ने बताया कि अनिल कुमार को पकड़ लिया गया है. उसने मुख्यमंत्री की आंखों को निशाना बनाया था. अधिकारियों ने बताया कि बताया कि उनका चश्मा टूट गया, लेकिन उनकी आंखों को कोई नुकसान नहीं हुआ. उन्होंने बताया कि कुमार का आधार कार्ड बरामद किया गया है. वह खैनी के पैकेटों में मिर्च का पाउडर लेकर सचिवालय आया था. केजरीवाल पर मिर्च पाउडर फेंकने के बाद कुमार ने धमकी दी कि जेल से बाहर आकर वह उन्हें गोली मार देगा. एक अधिकारी ने बताया कि यह हमला तब हुआ जब केजरीवाल तीसरी मंजिल पर स्थित अपने चेंबर से भोजन करने के लिए निकले थे. ‘आप’ प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने हमले के लिए जहां भाजपा पर आरोप लगाया, वहीं भाजपा की दिल्ली इकाई के नेता मनोज तिवारी ने हमले की निंदा की और घटना की ‘उच्च स्तरीय’ जांच की मांग की. सौरभ भारद्वाज के मुताबिक, हमला मुख्यमंत्री के कार्यालय के बाहर हुआ जो एक ‘उच्च सुरक्षा’ वाला क्षेत्र है. उन्होंने इसे एक गंभीर मामला और हमले को ‘राजनीति से प्रेरित’ करार दिया. सौरभ भारद्वाज ने आरोप लगाया, ‘हमले के पीछे भाजपा है और मोदी सरकार आरोपी की सहायता कर रही है.’ दिल्ली भाजपा प्रमुख ने कहा कि इस तरह की घटनाओं को ‘बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और न ही कोई इसे सही ठहरा सकता है.’ मनोज तिवारी ने कहा कि घटना की उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए. केजरीवाल के करीबी अधिकारियों ने दिल्ली पुलिस पर उन्हें कम सुरक्षा देने का आरोप लगाया. उन्होंने आरोप लगाया कि एक महीने से भी कम अवधि में तीसरी बार केजरीवाल को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की गई है. वहीं, ‘आप’ ने आरोप लगाया कि इस महीने की शुरुआत में सिग्नेचर ब्रिज के उद्धाटन समारोह में तिवारी ने केजरीवाल पर पानी की बोतलें फेंकी थी. भारद्वाज ने कहा, ‘दशहरा के दौरान एक अज्ञात व्यक्ति केजरीवाल के आवास में घुस गया था और उसने मुख्यमंत्री पर हमला करने का प्रयास किया था.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.