राहुल की नसीहत के बाद सीपी जोशी ने दी सफाई, PM मोदी को लेकर दिया था विवादित बयान

0
326

कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने सीपी जोशी के विवादित बयान पर खेद प्रकट किया है। राजस्थान में एक चुनावी रैली के दौरान पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता सीपी जोशी ने एक सभा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उमा भारती की जाति और धर्म पर सवाल उठाते हुए दोनों पर निशाना साधा था।

संबित पात्रा बोले, सीपी जोशी को पार्टी से बाहर करें राहुल गांधी कांग्रेस के नेता बंद दरवाजे के पीछे विचार-विमर्श करते हैं और वो रिकॉर्ड हो जाता है। जब खुलासा होता है तो वे लोगों से माफी मांगने के लिए कहते हैं। राहुल जी आपको भी रंगे हाथों पकड़ा गया है। आपको सीधे सीपी जोशी को पार्टी से बाहर निकालना चाहिए। उन्हें एक घंटे में बाहर निकालें।

सीपी जोशी ने प्रकट किया खेद
राहुल गांधी की नसीहत के बाद सीपी जोशी ने सोशल मीडिया पर अपनी सफाई देते हुए कहा, ‘कांग्रेस के सिद्धांतो एवं कार्यकर्ताओं की भावनाओं का सम्मान करते हुए मेरे कथन से समाज के किसी वर्ग को ठेस पहुंची हो तो मैं उसके लिए खेद प्रकट करता हूं।’

पहला ट्वीट-‘बीजेपी की ओर से मेरे कथन को तोड़-मरोड़ कर पेश करने की मैं निंदा करता हूं। तमाम विवादों को खत्म करने के लिए मैं यहां मेरे भाषण की क्लिप संलग्न कर रहा हूं। सत्यमेव जयते।”

दूसरा ट्वीट-‘कांग्रेस के सिद्धांतों एवं कार्यकर्ताओं की भावनाओं का सम्मान करते हुए मेरे कथन से समाज के किसी वर्ग को ठेस पहुंची हो तो मैं उसके लिए खेद प्रकट करता हूं।”

सीपी जोशी के विवादित बयान पर राहुल गांधी की सफाई
इससे पहले राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘सीपी जोशी जी का बयान कांग्रेस पार्टी के आदर्शों के विपरीत है। पार्टी के नेता ऐसा कोई बयान न दें जिससे समाज के किसी भी वर्ग को दुख पहुंचे। कांग्रेस के सिद्धांतों, कार्यकर्ताओं की भावना का आदर करते हुए जोशीजी को जरूर गलती का अहसास होगा। उन्हें अपने बयान पर खेद प्रकट करना चाहिए।’

उधर, लोकसभा में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने डॉ. जोशी का व्यक्तिगत बयान बताते हुए पल्ला झाड़ लिया। जयपुर में मीडियाकर्मियों से बातचीत में उन्होंने कहा कि जोशी ने जो बोला है, वह उनका व्यक्तिगत बयान है, इसका कांग्रेस से कोई लेना-देना नहीं है । आनंद शर्मा ने कहा कि कांग्रेस का अधिकृत बयान कांग्रेस के अध्यक्ष के निर्देश पर या कार्यसमिति की बैठक में ही तय होता है।

राजस्थान के गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया ने शुक्रवार को उदयपुर में कहा कि सामाजिक कार्यकर्ता को इस तरह के बयान नहीं देना चाहिए। यह बयान डॉ. जोशी और कांग्रेस की ओछी मानसिकता को दर्शाता है। वहीं, भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक परनामी ने कहा कि कांग्रेस हमेशा धर्म और जाति के आधार पर भेदभाव करती रही है।

जानें, क्या है मामला
जोशी द्वारा गुरुवार शाम को नाथद्वारा के सेमा गांव में दिए गए भाषण का वीडियो वायरल हुआ। इसमें राज व धर्म की व्याख्या करते हुए जोशी ने जाति-धर्म का जिक्र कर पीएम नरेंद्र मोदी, केंद्रीय मंत्री उमा भारती और साध्वी ऋतंभरा पर वार किया। उन्होंने यह भी कहा कि धर्म के बारे में सिर्फ ब्राह्मण ही जानता है। वहीं, भाजपा ने इस वीडियो को मुख्य चुनाव अधिकारी को भेजकर जोशी पर जातिगत वैमन्यता फैलाने का आरोप लगाया है।

गौरतलब है कि राजस्थान में विधानसभा चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आ रहे हैं, वैसे-वैसे पार्टियों के बीच आरोप-प्रत्‍यारोप बढ़ते जा रहे हैं। सीपी जोशी ने पिछले दिनों जहां राम मंदिर निर्माण को लेकर बड़ा बयान दिया था, वहीं गुरुवार को नाथद्वारा विधानसभा क्षेत्र के सेमा गांव में प्रचार के दौरान कहा कि हिन्दू धर्म की बात ब्राह्मण जानते हैं। उन्होंने ग्रामीणों से प्रधानमंत्री मोदी, साध्वी ऋतंभरा और उमा भारती की जाति के बारे में पूछ लिया।

सीपी जोशी ने कहा कि इस देश में धर्म के बारे में जानते हैं तो पंडित जानते हैं। उन्होंने कहा कि अब साध्वी ऋतम्भरा, उमा भारती और नरेंद्र मोदी हिन्दू धर्म की बात करते हैं। अब यह ब्राह्मणों का काम नहीं।

गौरतलब है कि सीपी जोशी ने राम मंदिर के निर्माण को लेकर बड़ा बयान दिया था जिससे भाजपा में हलचल मच गई थी। उन्होंने कहा कि देश में राम मंदिर का निर्माण कांग्रेस का प्रधानमंत्री ही कराएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.