फिलीपींस : पुलिसकर्मियों पर लगा किशोरी की हत्या का आरोप, तो कोर्ट ने सुनाई 40 साल की कैद

0
358

मनीला : फिलीपींस में एक किशोर की हत्या के चर्चित मामले में गुरुवार को तीन पुलिसकर्मी दोषी पाए गए. राष्ट्रपति रोड्रिगो दुतेर्ते द्वारा ‘मादक पदार्थ के खिलाफ युद्ध’ शुरू करने के बाद सुरक्षाकर्मियों को अपराधी ठहराने का यह पहला मामला है.

समाचार एजेंसी एफे की रिपोर्ट के मुताबिक, कैलुकेन क्षेत्रीय ट्रायल कोर्ट ने अधिकारियों आर्नल ओआरेस, जेरेमियास पेरेडा और जेरविन क्रूज को अगस्त 2017 में मनीला के बाहर 17 वर्षीय किशोर कियान डेलोस सैंटोस की एक मादक पदार्थ रोधी अभियान में हत्या करने के मामले में बिना पैरोल के 40 साल तक जेल में रहने की सजा सुनाई और उन्हें 345,000 पेसो (6,580 डॉलर) क्षतिपूर्ति के तौर पर देने का भी आदेश दिया.

अधिकारियों को हालांकि, सबूत के साथ छेड़छाड़ करने का दोषी नहीं पाया गया. सैंटोस के शव के बगल में ‘शाबू’ (एक सस्ता और बड़ी मात्रा में इस्तेमाल होने वाला मादक पदार्थ) के दो सैशे और एक बंदूक पाई गई थी.

फिलीपींस के मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष चिटो गैसकोन ने एक बयान में कहा, “हम कियान के हत्यारों को ट्रायल कोर्ट द्वारा अपराधी ठहराए जाने के फैसले का स्वागत करते हैं और इस मामले में न्याय दिलाने में मदद करने वाले सभी लोगों का शुक्रिया अदा करते हैं, खासकर साहसी प्रत्यक्षदर्शियों, चर्च के कर्मचारियों, मानव अधिकार रक्षकों, जांचकर्ताओं और अभियोजकों का.. जिन्होंने अपना कर्तव्य निभाया.”अधिकारियों ने आरोप लगाया था कि सैंटोस एक मादक पदार्थ तस्कर था लेकिन किशोर के परिवार ने इस आरोप को साफ तौर पर नकार दिया, जिसका कोई सबूत नहीं था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.