1983 वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम 2011 से ज्यादा हैंडसम थी: गावस्कर

0
202

एजेंडा आजतक में पहुंचे भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने कहा कि 1983 में विश्व कप जीतने वाली टीम 2011 में विश्व कप जीतने वालों से ज्यादा हैंडसम थी. गावस्कर ने एक-एक खिलाड़ियों का नाम बताते हुए कहा कि तकरीबन आधे खिलाड़ी ऐसे थे जिन्होंने फिल्मों में काम किया था या जिन्हें फिल्मों के ऑफर मिल चुके थे. गावस्कर ने उदाहरण देते हुए अपने जमाने के अनुभव साझा किए.

श्रीकांत तमिल फिल्मों में काम कर चुके थे. गावस्कर ने खुद अपने बारे में बताया कि वह भी हिंदी और मराठी फिल्में कर चुके थे. कपिल को भी यह अवसर मिल चुका था. मोहिंदर अमरनाथ को पंजाबी फिल्मों के ऑफर मिला था, लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया था. संदीप पाटिल भी अभिनय की दुनिया में आ गए थे. लेकिन 2011 की टीम में कौन था. युवराज सिंह ने एक फिल्म में बच्चे का रोल किया था वह भी उन्हें याद नहीं होगा.

गावस्कर और कपिलदेव ने बताया कि उन दिनों हर संडे को पार्टी होती थी. बुधवार को चेयरमैन का चयन हो जाता था. चेयरमैन ड्रेस कोड लागू करता था. उसे फॉलो न करने पर चेयरमैन को फाइन लगाने का अधिकार था. कभी-कभी ऐसे भी आदेश आते थे कि शर्ट के बटन पीठ पर बंद होंगे. मोजे हाथ में पहनकर आने हैं. टाई पहननी है, शर्ट पहननी ही नहीं है.

एक कहानी बताते हुए उन्होंने कहा कि एक बार आदेश हुआ कि टाई पहनकर आनी है. टीम के एक सदस्य को चेयरमैन ने पकड़ लिया कि उन्होंने टाई नहीं लगाई है. टीम मेंबर ने कहा कि यह नहीं बताया गया था कि टाई कहां लगानी है. वह कमर में टाई लगाकर आए थे और उन्होंने सबको दिखा दिया. इसके बाद बात उठी कि चेयरमैन पर फाइन हो. ध्वनिमत से यह प्रस्ताव पास हो गया और चेयरमैन पर फाइन लगा दी गई.

कपिल ने कहा कि संडे पार्टी इसलिए की जाती थी कि जूनियर भी सीनियर खिलाड़ियों के साथ घुल मिल जाएं. जूनियर खिलाड़ी समझें कि यहां पर कोई भगवान नहीं है. गावस्कर ने बताया कि आज भी उनका एक वाट्सऐप ग्रुप है, जिसपर 1983 विश्व कप के सभी खिलाड़ी शामिल हैं.

क्या यह टीम विश्व कप जीत सकती है. इस पर कपिल ने कहा कि दिल कहता है कि टीम जीत सकती है, लेकिन दिमाग कहता है कि इसके लिए बहुत मेहनत करनी होगी. टीम की सबसे बड़ी खासियत यह है कि टीम में कॉन्फिडेंट है और सबसे बड़ी कमजोरी है कि टीम ओवर कॉन्फिडेंट है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.