पटना / दो दर्जन से अधिक झोपड़ियां जलीं, दमकल के देरी से आने पर लोगों ने किया पथराव

0
260

मालसलामी थानाक्षेत्र के शरीफागंज मोहल्ला स्थित स्लम बस्ती में रविवार की देर शाम हुई भीषण आगजनी में दो दर्जन से अधिक झोपड़ियां राख हो गईं। फायर ब्रिगेड की नौ यूनिट ने करीब तीन घंटे की मेहनत के बाद आग पर बुझाई। घटना में आधा दर्जन मवेशी झुलस गए।

दमकल के देर से पहुंचने का आरोप लगाते हुए आक्रोशित लोगों ने फायर ब्रिगेड के तीन वाहनों पर पथराव कर शीशे तोड़ दिए। घटना में बीस लाख रुपए की संपत्ति के नुकसान का आकलन है। घटना का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है। आशंका जताई जा रही है कि खाना बनाने के क्रम में गैस पाइप लीक होने या फिर आग तापने के दौरान घटना हुई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

बताया जाता है कि शाम करीब सात बजे अचानक शरीफागंज स्लम से आग की तेज लपट व धुआं उठने से मोहल्ले में अफरातफरी मच गई। झोपड़ियों से महिला-पुरुष व बच्चे जान बचाकर इधर-उधर भागने लगे। मवेशियों और सामान निकालने का वक्त तक नहीं मिला। झुलसने से एक मवेशी के मौत की सूचना है। दस साल का बच्चा भी जख्मी हो गया। लोगों ने घटना की सूचना फायर ब्रिगेड सिटी स्टेशन को दी।

मौके पर एक साथ तीन यूनिट पहुंची, लेकिन आग पर काबू पाना संभव नहीं हो पा रहा था। पास में ही कई मोहल्ले थे, अंदेशा इस बात का बना था, कि समीप के घर चपेट में न आ जाएं। बाद में छह और दमकल बुलाई गई। रास्ता संकरा होने से दमकल को आग बुझाने में दिक्कत हो रही थी इसी बीच कुछ युवक आक्रोशित हो गए कि फायर ब्रिगेड की यूनिट देर से पहुुंंची। इसके बाद दमकल पर ताबड़तोड़ पथराव शुरू हो गया।

मालसलामी थाना पुलिस ने हंगामा कर रहे युवकों को खदेड़ कर भगाया। फायर ऑफिसर का कहना था कि सूचना मिलने पर तत्काल मौके पर यूनिट पहुंची है। बात यह सामने आ रही है, कि टुनू दास के यहां खाना बन रहा था, उसी दौरान छोटे गैस सिलेंडर के पाइप में आग लगी। घटना में झोपड़ी के अंदर रखे टीवी, चौकी, पलंग, बक्सा, कपड़ा, खाने का सामान आदि जल गए।

कुछ लोगों का यह भी कहना है कि आग तापने के दौरान आग लगी है। एसडीओ राजेश रोशन व एएसपी बलिराम चौधरी ने बताया कि अगलगी की जांच की जा रही है। पीड़ित परिवार को कटरा बाजार समिति परिसर में रखा गया है। पीड़ित परिवार के बीच सूखा भोजन व प्लास्टिक उपलब्ध कराया गया है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.