बुलंदशहर हिंसा : जिसने इंस्पेक्टर सुबोध को मारी थी गोली, उसे पुलिस ने धर दबोचा

0
206

बुलंदशहर : उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हुई हत्या के मामले में मुख्य आरोपी प्रशांत नट को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. बुलन्दशहर के एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने बृहस्पतिवार को नट की गिरफ्तारी की पुष्टि की. उन्होंने यह भी बताया कि नट ने ही सिंह की हत्या की थी और उससे इस मामले में और पूछताछ की जा रही है. हालांकि, हत्या में इस्तेमाल किया गया रिवाल्वर अभी बरामद नहीं हो पाया है. यहां यह जानना गौरतलब है कि बुलंदशहर में भीड़ के हमले में इंस्पेक्टर सुबोध के अलावा एक अन्य युवक की मौत हो गयी थी.
चौधरी ने यह भी बताया कि इंस्पेक्टर ने आत्मरक्षा में गोली चलायी थी, जिसमें सुमित नाम के युवक (उम्र लगभग 20 साल) की मौत हो गयी थी. पुलिस सूत्रों के अनुसार मौका-ए-वारदात के वीडियो फुटेज और कुछ लोगों की गवाही के आधार पर इंस्पेक्टर की हत्या में नट को संदिग्ध पाया गया.
पुलिस के मुताबिक जॉनी नाम के शख्स ने इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की रिवॉल्वर चुरायी थी. वहीं, प्रशांत नट ने उन्हें गोली मारी थी. पुलिस जॉनी की तलाश कर रही है. पुलिस को हाथ लगे दो वीडियो में ये दोनों शख्स साथ दिख रहा है.
पुलिस ने जॉनी और प्रशांत नट दोनों को सुबोध की मौत में मुख्य आरोपी बनाया है. दोनों बुलंदशहर के रहने वाले हैं. बताते चलें कि प्रशांत नट के पकड़े जाने के बाद यूपी एसटीएफ जॉनी की तलाश कर रही है. पुलिस पूछताछ में प्रशांत नट ने हत्या की बात कबूल कर लिया है. प्रशांत से पूछताछ जारी है.
मालूम हो कि बीते तीन दिसंबर को हुई इस घटना के सिलसिले में बुलन्दशहर पुलिस ने अब तक 20 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया है और छह से अधिक लोगों ने अदालत में आत्मसमर्पण किया है.
बुलंदशहर हिंसा मामले में पुलिस बार-बार अपनी थ्योरी बदल रही है. सबसे पहले पुलिस ने बजरंग दल के जिला संयोजक योगेश राज को मुख्य आरोपी बताया. हालांकि, पुलिस ने योगेश को पकड़ने में पहले थोड़ी बहुत तेजी दिखायी, लेकिन योगेश के बारे में ज्यादा तफ्तीश नहीं की जा रही.
उसके बाद पुलिस ने जीतू फौजी को आरोपी बताया और उसे गिरफ्तार भी किया. अब एक नया वीडियो सामने आने के बाद पुलिस ने प्रशांत नट को हत्या के मामले में गिरफ्तार किया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.