पारदर्शिता के साथ बियाडा की जमीन का ट्रांसफर हो : मुख्यमंत्री

0
200

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बड़े उद्योग स्थापित नहीं होने का कारण राज्य का स्थलरुद्ध होना बताया और कहा कि ऐसे में लघु उद्योगों को बढ़ावा देने की जरूरत है और सरकार इसमें हरसंभव मदद करेगी। श्री कुमार ने सोमवार को यहां उद्यमी पंचायत की बैठक में कहा कि बिहार स्थलरुद्ध राज्य है। यहां बड़े उद्योग नहीं लग पा रहे हैं, इसलिए प्रदेश में लघु उद्योगों को बढ़ावा देने की जरूरत है।उन्होंने कहा कि दिसम्बर 2019 तक बिजली के जर्जर तारों को बदल दिया जाएगा और ग्रामीण क्षेत्रों में एग्रीकल्चर फीडर के माध्यम से किसानों को बिजली कनेक्शन उपलब्ध कराया जाएगा। औद्योगिक नीति के अंतर्गत ही पारदर्शिता के साथ बियाडा की जमीन का ट्रांसफर होना चाहिए। गाय के गोबर और गोमूत्र से ऑग्रेनिक फर्टिलाइजर और कीटनाशक का निर्माण होगा। गोशाला के निर्माण में भी आपलोग सहयोग दें। करीब 5 लाख युवाओं को कम्प्यूटर ज्ञान, संवाद कौशल एवं व्यवहार कौशल में प्रशिक्षित किया गया है। इसका लाभ इन युवाओं को रोजगार प्राप्ति के क्षेत्र में होगा। राज्य में क्राइम रेट घटा है। हाल ही में हुई हत्या हम सभी लोगों के लिए काफी दुखद रही है। उसकी मॉनिटरिंग डीजीपी स्तर पर हो रही है और इसके लिए एसआईटी का गठन भी किया गया है। हमारे कार्यालय से भी इन सबकी जानकारी लगातार ली जा रही है। व्यवसायी हत्या मामले में पुलिस कार्रवाई कर रही है और हत्या के कारणों को जानने की कोशिश में लगी हुई है। जानकारी यह भी मिल रही है कि आजकल अपराधी छोटे-छोटे लड़कों से क्राइम करवा रहे हैं। इन सब चीजों का आकलन पुलिस कर रही है। व्यक्तिगत तौर पर हम थानावार अपराध का भी आकलन करवाते रहते हैं। राज्य सरकार लोगों की सुरक्षा के लिए तत्परता से काम कर रही है।उन्होंने कहा कि औद्योगिक प्रोत्साहन नीति बने हुए लगभग ढाई वर्ष से ज्यादा हो गए हैं। उसकी समीक्षा के उद्देश्य से यह बैठक आयोजित की गई है। इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के प्रतिनिधियों ने विभिन्न मसलों पर अपने उपयोगी सुझाव दिए हैं, जिस पर गौर किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि औद्योगिक प्रोत्साहन नीति बने हुए काफी दिन हो चुके हैं लेकिन इसका लाभ लोग नहीं उठा पा रहे हैं इसलिए इसमें इन्वेस्टमेंट भी उतना नहीं हो पा रहा है। इंडस्ट्री के क्षेत्र में राज्य को ज्यादा टैक्स की प्राप्ति नहीं हो पा रही है लेकिन यहां बिजनस के क्षेत्र में वृद्धि हुई है, लोगों की क्रय शक्ति बढ़ी है। विकेंद्रीकृत तरीके से हमलोग विकास कर रहे हैं। राज्य दहाई अंक विकास दर के साथ आगे बढ़ रहा है। शराबबंदी के बाद लोग अपने बचत का उपयोग अन्य चीजों की खरीदारी में कर रहे हैं, जिससे राज्य का व्यवसाय भी बढ़ रहा है। ग्रामीण क्षेत्र के लोगों की भी क्रय क्षमता बढ़ी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आपलोगों ने तीन-चार महत्वपूर्ण सुझाव दिए हैं, जिस पर गौर किया जाएगा। आपलोगों ने जो बिजली संबंधी समस्या का जिक्र किया है, जिसका समाधान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि 31 दिसम्बर 2019 तक बिजली के जर्जर तारों को बदल दिया जाएगा और ग्रामीण क्षेत्र में एग्रीकल्चर फीडर के माध्यम से किसानों को बिजली कनेक्शन उपलब्ध कराया जाएगा। मुख्यमंत्री ने उद्योग क्षेत्र से जुड़े लोगों के संबंध में कहा कि जो उद्योगपति व्यक्तिगत सुरक्षा चाहते हैं, इसके लिए आईजी सिक्युरिटी की अध्यक्षता में एक कमेटी बनाई गई है, जो इन चीजों का आकलन करेगी कि किसे सुरक्षा दी जाए ? बिहार औद्योगिक सुरक्षा बल के दो बटालियन का एक बेगूसराय और एक डुमरांव में गठन किया जाएगा। इसके लिए पद स्वी़कृत कर दिए गए हैं। चयन पर्षद की तरफ से आगे की नियुक्ति के विज्ञापन में इसका जिक्र होगा। हमलोग बेहतर गवनेर्ंस के लिए हमेशा काम करते रहे हैं और इसके लिए कोई समझौता नहीं करते हैं। किसी भी पॉलिसी को कैबिनेट में ले जाने से पहले उसके वैधानिक पहलू की जांच कर लेते हैं और संतुष्ट होने के बाद ही कोई कारगर कदम उठाए जाते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि औद्योगिक नीति में आप सभी भागीदार हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.