थाईलैंड / सऊदी से भागी लड़की की अपील- वापस न भेजें, इस्लाम छोड़ा है इसलिए परिवार मार देगा

0
275

बैंकॉक. सऊदी अरब से भागी 18 साल की एक लड़की को बैंकॉक एयरपोर्ट पर हिरासत में रखा गया है। एयरपोर्ट प्रशासन उसे वापस भेज सकता है। हालांकि, लड़की की अपील है कि उसे सऊदी न भेजा जाए। उसका कहना है कि उसने इस्लाम छोड़ा दिया है, इसलिए सऊदी लौटने पर परिवार उसकी हत्या कर सकता है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कुनुन कुवैत में अपने परिवार के साथ छुट्टियां मनाने गई थी। यहां से उसने ऑस्ट्रेलिया भागने की योजना बनाई। हालांकि, बैंकाॅक एयरपोर्ट पर कनेक्टिंग फ्लाइट पकड़ने के दौरान ही उसे हिरासत में ले लिया गया।

सोशल मीडिया पर कुनुन ने की मदद की अपील

कुनुन सोशल मीडिया के जरिए कई दिनों से मदद मांग रही है। कुनुन का कहना है कि उसके पास ऑस्ट्रेलिया का वीजा है, लेकिन बैंकॉक के सुवर्णभूमि एयरपोर्ट पर उतरते ही सऊदी राजनयिक ने उसका पासपोर्ट जब्त कर लिया। सऊदी अधिकारियों का कहना है कि पासपोर्ट कुनुन के पास ही है। उसे फ्लाइट का रिटर्न टिकट न रखने की वजह से एयरपोर्ट पर हिरासत में लिया गया है। सोमवार को उन्हें कुवैत वापस भेजा जाएगा, जहां उनका परिवार है।

कुनुन को बचाने आगे आया ह्यूमन राइट्स वॉच
मामला सामने आने के बाद ह्यूमन राइट्स वॉच ने थाई अधिकारियों से कुनुन को वापस न भेजने की अपील की है। मध्य-पूर्व में संस्था के निदेशक माइकल पेज ने बयान जारी कर कहा, “सऊदी से भागी लड़कियों को लौटने के बाद अपने परिवार और रिश्तेदारों से हिंसा और प्रताड़ना का सामना करना पड़ता है। मर्जी के खिलाफ वापस भेजे जाने पर उन्हें गंभीर नुकसान हो सकता है।”

लड़की को संयुक्त राष्ट्र के पास ले जाए थाईलैंड

ह्यूमन राइट्स वॉच के एक और अधिकारी फिल रॉबर्टसन ने कहा कि सऊदी का ट्रैक रिकॉर्ड देखते हुए कुनुन के मारे जाने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि थाईलैंड को लड़की को संयुक्‍त राष्‍ट्र शरणार्थी उच्‍चायुक्‍त (यूएनएचसीआर) के पास ले जाना चाहिए और शरण देनी चाहिए। दरअसल, यूएनएचसीआर के नियमों के मुताबिक, अगर शरण मांगने वालों की जान को खतरा है, तो उन्हें मूल देश लौटाने से रोका जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.