महीनों बाद एक मंच पर दिखे तेजप्रताप व तेजस्वी

0
122

पटना के मिलर हाई स्कूल ग्राउंड में राजद की तरफ से आयोजित कपरूरी ठाकुर जयंती के मौके पर तेजप्रताप और तेजस्वी यादव एक साथ मंच पर देखे गए। पारिवारिक विवाद के बाद ये पहला मौका था कि राजद के दोनों युवराज एक साथ पार्टी के सार्वजनिक कार्यक्रम में दिखाई दिए। इस मौके पर तेजस्वी यादव ने अपने बड़े भाई तेजप्रताप का पैर छूकर आशीर्वाद लिया और ‘‘ऑल इज वेल’ का संदेश दिया। वैसे तो कपरूरी जयंती समारोह के मंच पर दोनों भाइयों की कुर्सी अलग-अलग लगाई गई थी। शुरू में तेजस्वी यादव के बगल में रामचंद्र पूव्रे को बैठना था लेकिन कार्यक्रम शुरू होने के कुछ देर बाद तेजप्रताप मंच पर पहुंचे तो तेजस्वी ने अपनी बगल वाली कुर्सी पर भाई तेजप्रताप को बैठाया। समारोह में पार्टी के सभी बड़े नेता मौजूद रहे। तेजप्रताप यादव ने अपनी पत्नी ऐश्वर्या राय से तलाक लेने को लेकर एक याचिका डाल रखी है जिसकी सुनवाई पटना के फैमिली कोर्ट में चल रही है। पत्नी से विवाद के बाद तेजप्रताप ने अपने घर पर रहना छोड़ दिया है। वे अपने परिवार से अलग रह रहे हैं। तेजप्रताप की पार्टी से नाराजगी की खबरें भी आती रहती हैं। ऐसे में ‘‘ऑल इज वेल’ की ये खबर पार्टी के लिए सुकून की लहर की तरह है।बेशर्मी की हद हो गयी, गाली देने वाले भी मना रहे कपरूरी जयंती : तेजस्वीपटना। राजद की ओर से आज कपरूरी जयंती का आयोजन किया गया। पटना के मिलर हाई स्कूल मैदान में आयोजित इस कार्यक्रम में राजद के तमाम बड़े नेताओं ने शिरकत की। इस मौके पर कपरूरी ठाकुर की र्चचा कम और बीजेपी-जदयू पर हमले ज्यादा हुए। पूर्व डिप्टी सीएम व नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने बीजेपी-जदयू पर जमकर हमला बोला। उन्होंने बीजेपी और जदयू द्वारा कपरूरी जयंती मानने पर कहा है कि कलतक जो लोग कपरूरी ठाकुर को भद्दी-भद्दी गालियां देते थे आज उनकी जयंती मना रहे हैं। यह तो बेशर्मी की हद हो गई। तेजस्वी ने कहा कि आज गोडसे के वंशज और अंग्रेजों के गुलाम हैं वे आज सत्ता पर काबिज हैं। आज वे एकबार फिर देश में पुरानी सामंतवादी व्यवस्था लागू करना चाहते है। इनका एक ही मकसद है पिछड़े लोगों दबाए रखना। ये चाहते हैं कि पिछड़ा और दलिक वर्ग फिर से इनकी गुलामी करे। लेकिन अब ऐसा नहीं होने वाला है। उन्होंने कहा कि इस देश से लोहिया और कपरूरी ने उस वर्ण और सामंतवादी व्यवस्था को खत्म करने के लिए संघर्ष किया। हमारे पिता लालूजी ने उसे जमीन स्तर पर लाने का काम किया और दलितों-पिछड़ों को समाज में सम्मान दिलाने का काम किया उसे ये लोग खत्म करना चाहते है, लेकिन हम ऐसा होने नहीं देंगे। कार्यक्रम के दौरान तेजस्वी सीएम नीतीश कुमार पर भी जमकर बरसे। उन्होंने कहा कि चाचा नीतीश जी शर्माते- शर्माते हम लोगों के लाइन पर आए हैं। अब वे जातिगत आरक्षण की मांग कर रहे हैं। लेकिन आरक्षण समाप्त करने के दिशा में जो गुपचुप साजिश चल रहा है उसमें जितना पीएम मोदी दोषी हैं उतना ही नीतीश कुमार भी दोषी हैं। तेजस्वी ने कहा कि देश की सत्ता से इन्हें हटाने के बड़ा आंदोलन होगा। तेजप्रताप यादव का एलपी मूवमेंट और बेरोजगारी हटाओ आरक्षण बचाओ आंदोलन साथ-साथ शुरू होगा और इन्हें सत्ता से बाहर का रास्ता दिखाया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.