ममता के धरने पर कांग्रेस के दो सुर, सांसद ने CBI एक्शन का किया समर्थन

0
97

कोलकाता के मेट्रो चैनल पर धरने में बैठीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को लेकर कांग्रेस बंट गई है. जहां एक ओर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ममता बनर्जी के धरने का समर्थन किया, तो दूसरी ओर उन्हीं की पार्टी के सांसद और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने पश्चिम बंगाल में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की है. आपको बता दें कि ममता बनर्जी शारदा और रोज वैली चिटफंड घोटाला मामले में कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार से सीबीआई की पूछताछ के खिलाफ धरने पर बैठी हैं. पश्चिम बंगाल में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष चौधरी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने विरोधियों के खिलाफ सीबीआई का बेजा इस्तेमाल करते हैं, ये सच है, लेकिन पश्चिम बंगाल के इस मामले में तो सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर सीबीआई ने कार्रवाई की है. उन्होंने सवाल उठाया कि आखिर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के धरने में पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार मंच पर क्यों मौजूद हैं? कांग्रेस सांसद चौधरी ने यह भी कहा, ‘मैं इस मामले में अपने हाईकमान की नहीं जानता, लेकिन मेरी यही राय है कि पश्चिम बंगाल में राष्ट्रपति शासन लगा देना चाहिए.’ उन्होंने कहा कि कोलकाता में सीबीआई के अधिकारियों को हिरासत में लिए जाने से राज्य में संवैधानिक संकट पैदा हो गया है और राष्ट्रपति शासन लागू करने की नौबत आ गई है. केंद्र सरकार को संविधान के अनुच्छेद 356 के तहत पश्चिम बंगाल में राष्ट्रपति शासन लागू कर देना चाहिए. उन्होंने कहा कि रविवार को शारदा और रोज वैली चिटफंड घोटाला मामले की जांच करने के लिए कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के घर पर आए सीबीआई अधिकारियों को ममता सरकार के आदेश पर पुलिस ने धक्कामुक्की की और हिरासत में ले लिया. कांग्रेस नेता ने कहा कि उन्होंने ऐसी घटना इससे पहले न कभी सुनी है और न ही देखी है. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर इस चिटफंड घोटाले की जांच कर रही है. इस मामले में कोलकाता के पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार पर दस्तावेजों को नष्ट करने की कोशिश करने का आरोप है. वहीं, इस घटना के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ममता बनर्जी को फोन किया और उनके प्रति अपना समर्थन जताया. राहुल गांधी ने कहा कि मोदी सरकार के खिलाफ पूरा विपक्ष एकजुट है और इन फासीवादी ताकतों को हराएगा. उन्होंने आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल की घटना भारत की संस्थाओं पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के निरंतर हमलों का हिस्सा है. कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि हम ममता बनर्जी के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हैं. राहुल गांधी ने कहा कि कोलकाता में सीबीआई की कार्रवाई साफ तौर पर पावर का गलत इस्तेमाल और संघीय राजनीति पर हमला करने जैसी है. पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने सार्वजनिक तौर पर धमकी दी थी, जिसके 48 घंटे के अंदर सीबीआई की कार्रवाई सामने आई है. इसके अलावा कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक सिंघवी ने कहा कि ममता बनर्जी को लेकर पीएम मोदी और अमित शाह की दुर्भावना काफी जहरीली है. बीजेपी और पीएम मोदी पश्चिम बंगाल में विवाद पैदा करने के लिए बेचैन हैं. रविवार को शारदा और रोज वैली चिटफंड घोटाला मामले की जांच के सिलसिले में सीबीआई की टीम कोलकाता के पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के घर पहुंची थी, जिनको पुलिस ने रोक लिया था. इसके बाद पुलिस ने सीबीआई के 5 अधिकारियों को हिरासत में ले लिया था. इस दौरान सीबीआई के अधिकारियों के साथ पुलिस ने धक्कामुक्की भी की. हालांकि कुछ देर बाद सीबीआई के इन अधिकारियों को छोड़ दिया गया. यह खेल यहीं पर खत्म नहीं हुआ था, जब थाने में सीबीआई अधिकारियों को हिरासत में लेकर पूछताछ चल रही थी, तभी कोलकाता पुलिस का भारी भरकम दस्ता सॉल्ट लेक स्थित सीबीआई दफ्तर पर जा पहुंचा. पुलिस ने सीबीआई दफ्तर पर कब्जा कर लिया. जब इस घटना की जानकारी पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को मिली, तो वो सबको चौंकाते हुए कोलकाता पुलिस कमिश्नर के घर पर पहुंच गईं. इस दौरान सीएम ममता बनर्जी के साथ सूबे के आला अफसर भी थे. पुलिस कमिश्नर राजीव के घर पर ही सीएम ममता बनर्जी ने अफसरों की बैठक की. इसके बाद वो कोलकाता के मेट्रो चैनल पर मोदी सरकार के खिलाफ धरने पर बैठ गईं. ममता बनर्जी ने मोदी सरकार पर राजनीतिक बदले की भावना से काम करने का आरोप भी लगाया है. वहीं, कांग्रेस पार्टी, समाजवादी पार्टी, राष्ट्रीय जनता दल (RJD), आम आदमी पार्टी (AAP), बहुजन समाज पार्टी (BSP), झारखंड मुक्ति मोर्चा, जेडीएस, डीएमके और नेशनल कॉन्फ्रेंस ने तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष ममता बनर्जी का समर्थन किया है. साथ ही विपक्षी नेताओं ने मोदी सरकार के खिलाफ एकजुता की बात कही है. सीबीआई ने अपने अधिकारियों के हिरासत में लिए जाने और जांच में रोड़ा डालने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का रुख करने जा रही है. सीबीआई ने कहा कि चिटफंड घोटालों में उसकी जांच में पश्चिम बंगाल सरकार और राज्य पुलिस रोड़े अटका रही है. खबर यह भी है कि इस घटना को लेकर सीबीआई सूबे के राज्यपाल से भी मिलेगी. सीबीआई ने राज्यपाल से मिलने का वक्त मांगा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.