हेमिल्टन टी-20 : एक और इतिहास रचने उतरेगा भारत (प्रीव्यू)

0
117

भारतीय टीम रविवार को सेडन पार्क में जब न्यूजीलैंड के खिलाफ आखिरी टी-20 मैच में उतरेगी तो उसकी नजरें इस लंबे दौरे का अंत एक और ऐतिहासिक जीत के साथ करने पर होगी। भारतीय टीम ने न्यूजीलैंड आने से पहले आस्ट्रेलिया का दौरा किया और वहां टेस्ट तथा वनडे सीरीज जीत कर इतिहास रचा। इसके बाद टीम न्यूजीलैंड आई और अब वह एक और इतिहास रचन के मुहाने पर है। भारतीय टीम अगर कल मैच जीत जाती है तो यह न्यूजीलैंड की जमीन पर उसकी पहली टी-20 सीरीज जीत होगी।

पहले मैच में करारी हार के बाद भारत ने दूसरे मैच में शानदार वापसी कर न्यूजीलैंड में अपनी पहली टी-20 जीत हासिल की थी। इससे सीरीज 1-1 की बराबरी पर है और दोनों टीमों के लिए आखिरी मैच निर्णायक बन गया है।

वहीं, किवी टीम निश्चित तौर पर वनडे सीरीज में मिली 1-4 की हार से आहत है और अब वह टी-20 सीरीज कर अपने घर में अपनी लाज बचाने की कोशिश करेगी। इसके लिए किवी टीम पूरी जान लगा देगी। पहले मैच में जिस तरह से उसने प्रदर्शन किया था उससे भारतीय टीम को भी सचेत रहना होगा।

भारत के लिए दूसरे मैच में सब कुछ सही रहा था। उसके गेंदबाजों ने पहले मैच की तरह रन नहीं लुटाए थे। एक बार फिर उसके गेंदबाजों पर यही जिम्मेदारी होगी। पहले मैच में खलील विफल रहे थे, लेकिन दूसरे मैच में उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया था।

भारतीय टीम में बदलाव की संभावना लगभग न के बराबर है। रोहित, विजय शंकर को हालांकि बाहर बैठा सकते हैं क्योंकि टीम के पास पर्याप्त गेंदबाज हैं। उन्होंने दूसरे मैच में गेंदबाजी नहीं की थी। बल्लेबाजी में भी वह अच्छा योगदान नहीं दे पाए थे।

मैच जीतने के लिए टीम बल्लेबाजी में एक बार फिर रोहित शर्मा पर निर्भर रहेगी जिन्होंने दूसरे मैच में बेहतरीन पारी खेल बता दिया कि अगर उनका बल्ला चल गया तो वह कुछ भी कर सकते हैं। उन्हें साथ की जरूरत होगी जो शिखर धवन अच्छे से देना जानते हैं।

मध्यक्रम में दिनेश कार्तिक, महेंद्र सिंह धोनी और युवा बल्लेबाज ऋषभ पंत पर जिम्मेदारी होगी।

भारत के बल्लेबाजों से ज्यादा गेंदबाजों को इस मैच में सावधान रहना होगा। टीम के पास अनुभव की बात की जाए तो भुवनेश्वर कुमार हैं। बीच के ओवरों में पिछले मैच में क्रूणाल पांड्या ने अच्छा किया था और उनका साथ देने के लिए युजवेंद्र चहल भी मौजूद हैं। कुलदीप यादव ने टी-20 सीरीज में अभी तक एक भी मैच नहीं खेला है। अब देखना होगा कि क्या आखिरी मैच में रोहित, कुलदीप को मौका देते हैं या नहीं।

वहीं किवी टीम की बात की जाए टिम सेइफर्ट ने पहले मैच में जिस तरह का प्रदर्शन किया था वह उसे दोहराने की कोशिश करेंगे। कोलिन मनुरो अपने पसंदीदा प्रारूप में फॉर्म में आ चुके हैं। कप्तान केन विलियम्सन का बल्ला भी अच्छा बोल रहा है।

वहीं गेंदबाजी में टिम साउदी, ईश सोढ़ी और मिशेल सैंटनर पर बड़ी जिम्मेदारी होगी। गेंदबाजी में ग्रांडहोम और स्कॉट कुजेलेजिन का प्रदर्शन ज्यादा प्रभावी नहीं रहा है। आखिरी मैच में इन दोनों को अपने खेल के स्तर को ऊपर उठाना होगा।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.