इस बैंक में कराएं FD, ब्याज के साथ मुफ्त में मिलेगा लाइफ इंश्योरेंस

0
450

ICICI बैंक अपने ग्राहकों को एक बहतरीन फैसिलिटी दे रहा है. बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट (FDs) को इन्वेस्ट करने का सबसे अच्छा माध्यम कहा जाता है. खासकर इन इन्वेस्टर्स के लिए जो एक फिक्स्ड टाइम पर अच्छा रिटर्न कमाना चाहते हैं. आज हम आपको बता रहे हैं आईसीआईसीआई बैंक की एक नई स्कीम के बारे में जहां FD कर आपको हेल्थ कवर भी मिल सकेगा. जानें क्या है बैंक की ये खास स्कीम.

हाल ही में ICICI बैंक ने एक नई FD स्कीम FD Xtra लॉन्च की. इसमें फ्री इंश्योरेंस और कई अन्य ऑफर दिए जा रहे हैं. आइए इनमें से कुछ (FD Life, FD Invest and FD Income) पर नजर डालते हैं और देखते हैं और जानते हैं कि वे क्या हैं और किन लोगों के लिए उपयुक्त हैं…

 


ICICI Bank FD Xtra के साथ एक फ्री लाइफ कवर मिल रहा है. ‘FD Life’ खोलने पर खाता धारक के लिए एक फ्री लाइफ कवर है. यह कवर उन लोगों को मिलेगा जिनकी उम्र 18-50 साल के बीच है. यह कवर कम से कम 2 साल के लिए मिनिमम 3 लाख की FD पर मिलेगा.

आपको बता दें कि यह लाइफ कवर पहले साल के लिए ही फ्री है, दूसरे साल FD होल्डर को प्रीमियम देकर इसे रिन्यू कराना पड़ सकता है. इसमें अधिकतम कवर 3 लाख रुपये है. इस तरह, 9 लाख रुपये की एफडी कराने पर 3 लाख रुपये का लाइव कवर मिलेगा.

इस प्लान को लेते समय इन बातों का रखें ध्यान
‘FD Plus Life Cover kind deposits’ का चयन करने से पहले यह चेक करें कि आप जितनी अवधि के लिए FD करना चाहते हैं, क्या दूसरे बैंक बेहतर ब्याज दे रहे हैं. साथ ही FD की रकम को देखते हुए यह जरूर पड़ताल कर लें कि जो लाइफ कवर मिल रहा है, क्या वह आपके लिए पर्याप्त है. एक बेहतर स्थिति यह होती है कि किसी व्यक्ति का लाइव कवर उसकी टेक होम सैलरी का कम से कम दस गुना होना चाहिए.

विद्ड्रॉअल ऑफ़ लाइफ कवर
इस तरह की FD के आंशिक या प्री-मैच्योर विद्ड्रॉअल की स्थिति में फ्री लाइव कवर भी आंशिक या प्री-मैच्योर विद्ड्रॉअल की तारीख से खत्म हो गया. साथ ही यदि कोई पेनल्टी बनती है तो बैंक के नियम अनुसार FD से बाहर निकले पर देनी पड़ सकती है. यदि बहुत अधिक पैसे की जरूरत न हो तो बैंक FD का आंशिक या प्री-मैच्योर विद्ड्रॉल करने से बचें. पैसे की अचानक जरूरत के लिए आप लोन या ओवरड्रॉफ्ट सुविधा का फायदा उठा सकते हैं.

जॉइंट होल्डिंग
ICICI बैंक का यह FD अकाउंट सिंगल या ज्वाइंट हो सकता है. लेकिन लाइव कवर हमेशा पहले डिपॉजिट होल्डर को ही मिलेगा.

इंटरेस्ट पेआउट
बैंक FD पर ब्याज दरों के भुगतान के लिए मासिक, तिमाही, छमाही या सालाना विकल्प होता है. FD Xtra जैसी FD में भी अकाउंट होल्डर को यह विकल्प मिलेगा.

ये भी पढ़ें: Railway की खास फैसिलिटी: टिकट बिना कैंसिल करे बदल सकते हैं यात्री का नाम, जानें क्या है प्रॉसेस

FD Income
यदि ‘FD Income’ ऑप्शन के तहत कम से कम 24 महीने के अवधि (इन्वेस्टमेंट फेज) के लिए मिनिमम 2 लाख रुपये का FD किया है तो मैच्योरिटी पर मूलधन और ब्याज को एन्युटी FD में पेआउट पीरियड के लिए निवेश कर दिया जाएगा. उदाहरण से समझें, यदि आपने 24 महीने के लिए 2 लाख रुपये 7.25 फीसदी ब्याज पर का निवेश किया है तो इन्वेस्टमेंट अवधि में यह रकम 230908 लाख रुपये हो जाएगी. मैच्योरिटी पर FD होल्डर को यह रकम देने की बजाय 24 महीने के लिए हर माह 10,365 रुपये का भुगतान किया जाएगा. इस स्थिति में बयाज दर 4 साल के लिए ही प्रभावी होगी.

इस तरह FD में निवेश की अवधि के दौरान रेगुलर इंट्रेस्ट का विकल्प नहीं होता है. इसलिए यदि आपको नियमित रूप से भुगतान नहीं चाहिए तो ही इस तरह की FD का विकल्प चुनें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.