सीएम नीतीश कुमार के कारकेड में कार घुसने के मामले में 10 पुलिसकर्मी सस्पेंड

0
120
मंगलवार की रात सीएम नीतीश कुमार के कारकेड में कार के घुसने के मामले में एसएसपी व ट्रैफिक एसपी ने दो दारोगा, एक एएसआइ, दो हवलदार व पांच कांस्टेबल को सस्पेंड कर दिया है. जांच के क्रम में इनकी लापरवाही सामने आयी और फिर यह कार्रवाई की गयी. एसएसपी गरिमा मलिक ने विधि व्यवस्था डीएसपी राकेश कुमार की जांच रिपोर्ट के आधार पर एक दारोगा, एक एएसआइ व चार जवानों को सस्पेंड किया.
जबकि ट्रैफिक एसपी अजय कुमार पांडेय ने दारोगा सत्येंद्र कुमार सिंह, दो हवलदार अवधेश मिश्रा, सुरेश यादव व कांस्टेबल चंदन कुमार को सस्पेंड किया है. इन सभी पुलिस पदाधिकारियों व जवानों की तैनाती आयकर गोलंबर पर थी.
आयकर गोलंबर पर हुई थी घटना : मंगलवार की रात सीएम नीतीश कुमार वीरचंद पटेल पथ स्थित जदयू कार्यालय से निकल रहे थे और उनका कारकेड आयकर गोलंबर की ओर आ रहा था. इसी बीच उजले रंग की एक कार पटना वीमेंस कॉलेज की ओर से आ रही थी और वह गोलंबर को घूम कर वीरचंद पटेल पथ की ओर जाने के बजाये रांग रूट से वीरचंद पटेल पथ में प्रवेश कर गयी. जबकि दूसरी ओर सीएम की गाड़ी काफी नजदीक पहुंच चुकी थी. इसके बाद वह कार वहां से निकल गयी.
सस्पेंड होने वालों के नाम
पटना पुलिस के सस्पेंड होने वालों में दारोगा अमरनाथ झा, एएसआइ योगेंद्र यादव, कांस्टेबल रवींद्र कुमार, रंजीत कुमार, दयानंद व डब्ल्यू शामिल थे. इनके अलावा दो होमगार्ड के जवान कपिलदेव पासवान व चंदेश्वर प्रसाद के खिलाफ विभागीय कार्रवाई के तहत ड्यूटी से वंचित करने की अनुशंसा की गयी है.सूत्रों के अनुसार इन पुलिसकर्मियों पर प्राथमिकी भी दर्ज हो सकती है.
 
नशे में दो युवक पकड़ाये, कार जब्त
पुलिस ने मामले की पूरी जांच की और कार्रवाई करते हुए एक उजले रंग की कार को घटना के कुछ देर बाद ही बरामद कर लिया और उसमें सवार दो युवक राजीव राय व प्रियदर्शी को पकड़ लिया. उन दोनों ने  शराब पी रखी थी.
दोनों की मेडिकल जांच करायी गयी तो शराब पीने की पुष्टि हो गयी और उन्हें जेल भेज दिया गया. पकड़े गये दोनों युवक बोरिंग रोड के पहलवान मार्केट इलाके के रहने वाले हैं. हालांकि वे दोनों ही सीएम के कारकेड में कार को जबरन प्रवेश कराने में शामिल थे या नहीं, इस पर जांच चल रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.