अनोखी पहल: गोरखपुर में दस हजार गरीबों को हर रोज पांच रुपए में मिलेगा भोजन

0
95

गोरखपुरः सुनकर विश्‍वास नहीं होगा, लेकिन ये सच है. अब महानगरों की तर्ज पर सीएम सिटी में भी हर रोज दस हजार गरीबों को अगले माह से महज पांच रुपए खर्च करके एक थाली भोजन मिलेगा. मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल इस योजना के लिए बेस किचन तैयार हो गया है. कुष्‍ठ आश्रम परिसर में अक्षय पात्रा का बेस किचन तैयार हो गया है.
गोरखपुर में गरीबो को पांच रुपए में भरपेट पौष्टिक भोजन देने की योजना जुलाई से शुरू होने जा रही है. इसके लिए 10 हजार थाली की क्षमता वाला बेस किचन कुष्‍ठ आश्रम में बनकर तैयार हो गया है. यहां से अक्षय पात्रा संस्‍था अपने किचन से पहले चरण में रोजाना 10 हजार थाली भोजन तैयार करेगी. ये भोजन गरीबों और शहर में काम करने के लिए आने वाले मजदूरों को महज पांच रुपए में उपलब्‍ध कराया जाएगा. अक्षय पात्रा की ओर से शहर के चिहि्नत 15 जगहों पर भोजन मिलेगा.

अक्षय पात्रा जुलाई के मध्‍य से ये सेवा शुरू कर देगा. मथुरा और लखनऊ के बाद गोरखपुर में घरों में मजदूरी करने वाले, मिस्‍त्री, रिक्‍शा चालक, छोटी-मोटी दुकान चलाने वालों को पौष्टिक भोजन उपलब्‍ध कराएगी. अक्षय पात्रा का लक्ष्‍य कुछ साल में थाली की संख्‍या बढ़ाकर तीन लाख रोजाना करने का लक्ष्‍य है. संख्‍या बढ़ने के बाद सरकारी स्‍कूलों में भी एमडीएम के तहत खाना उपलब्‍ध कराया जाएगा. शहर के गरीब और जरूरतमंदों को सस्‍ते दर पर भोजन उपलब्‍ध कराने की व्‍यवस्‍था की पहल सबसे पहले मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने की.

गोरखनाथ मंदिर की ओर से संचालित गोरखनाथ चिकित्‍सालय में मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ की पहल पर अन्‍नपूर्णा भोजनालय साल 2003 से चल रहा है. यहां पर आने वाले मरीजों के तीमारदारों को 10 रुपए में चार रोटी, दाल-सब्‍जी और चावल यानी भरपेट भोजन मिलता है. यहां पर साफ-सफाई के साथ क्‍वालिटी पर भी विशेष ध्‍यान दिया जाता है. रेलवे स्‍टेशन के जनाहार में भी 32 रुपए में शाकाहारी थाल उपलब्‍ध है. इसमें चार रोटी, चावल, दाल, रसेदार सब्‍जी, सूखी सब्‍जी, रायता और अचार शामिल है.

अक्षय पात्रा की ओर वैन के माध्‍यम से खोराबार, गोरखनाथ कुष्‍ठ आश्रम, चरगांवा, महेवा मंडी, साहबगंज मंडी, भटहट, पिपराइच, मेडिकल कालेज और कूड़ाघाट क्षेत्र में पहुंचाया जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.