उप्र अकेले ही पूरे देश का पेट भर सकता है : योगी

0
78

अयोध्या, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि देश के विकास में किसानों की बहुत बड़ी भूमिका है। अकेला उप्र पूरे देश का पेट भरने की क्षमता रखता है। मुख्यमंत्री योगी यहां सोमवार को कुमारगंज स्थित नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के ऑडिटोरियम में कृषि विज्ञान केंद्रों की 26वीं वार्षिक क्षेत्रीय कार्यशाला के शुभारंभ के मौके पर बोल रहे थे।

उन्होंने कहा कि किसानों के उत्साहवर्धन से ही दलहन मौजूद है और मूल्य नियंत्रित है। हैं। भारत को मजबूत बनाने में सभी का सहयोग चाहिए चाहे वो राज्य हो या जिला। सिद्धार्थनगर काला नमक चावल की भूमि है। मुजफ्फरनगर में गुड़ की 108 वेरायटी तैयार की गई है। यूपी में दलहन तिलहन की अपार संभावनाएं। वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट में पारंपरिक प्रोडक्ट है। उन्होंने कहा कि यहां दलहन और तिलहन फसलों के लिए पूरी संभावनाएं हैं। इसीलिए अकेले उप्र अकेले ही पूरे भारत का पेट भर सकता है।

उन्होंने कहा, “प्रधानमंत्री ने किसान सम्मान निधि योजना लाकर किसानों का सम्मान बढ़ाया है। सरकार बनने के बाद मेरे द्वारा पहली ही बैठक में प्रदेश में 20 कृषि विज्ञान केंद्रों को खोलने की सहमति दी गई है।”

योगी ने कहा कि भारत अब युवा से प्रौढ़ की ओर अग्रसर है। भारत के पास दुनिया का नेतृत्व करने की क्षमता है। प्रदेश में चार लाख से अधिक गौ-आश्रय स्थापित किए गए हैं, जिनके गोबर को कंपोस्ट खाद के रूप में तैयार किया जाएगा। इसमें कृषि विश्वविद्यालय की महत्वपूर्ण भूमिका होगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों की आय दोगुना करने के लिए काम कर रहे हैं। उन्होंने दशकों से लंबित न्यूनतम समर्थन मूल्य को लागू किया।

योगी ने कहा कि देश में कृषि की हालत सुधारने में कृषि वैज्ञानिकों की बड़ी भूमिका है। उनकी मदद से कृषि की हालत बदले जा सकते हैं। प्रदेश के दो कृषि विश्वविद्यालयों को सेंट्रल एक्सीलेंसी बनाने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने सिंचाई विभाग की योजनाओं की समीक्षा की जरूरत बताई।

मुख्यमंत्री ने इस दौरान विश्वविद्यालय स्थित नरेंद्र उद्यान पौधरोपण महाकुंभ 2019 के अंतर्गत पौधरोपण किया। मंडी परिषद द्वारा वित्तपोषित 100 छात्रों की क्षमता वाले छात्रावास का भी शिलान्यास किया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर जे संधू की महत्वाकांक्षी योजना के तहत विश्वविद्यालय परिसर में स्थापित 750 किलोवाट क्षमता के ग्रिड कनेक्टेड रूफटॉप सोलर सिस्टम का भी लोकार्पण किया।

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के साथ प्रदेश के कृषि शिक्षा एवं अनुसंधान राज्यमंत्री रणवेंद्र प्रताप सिंह, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के उप महानिदेशक (कृषि प्रसार) डॉ़ ए.के. सिंह व प्रमुख सचिव कृषि अमित मोहन प्रसाद भी उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.