उप्र : मीट दुकानों को जबरन बंद कराने से बांदा शहर में तनाव, पुलिस बल तैनात

0
80

बांदा, उत्तर प्रदेश के बांदा शहर में शुक्रवार को विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के कुछ कार्यकतार्ओं द्वारा शहर में घूम-घूमकर मीट की कथित अवैध दुकानें बंद कराए जाने के बाद यहां स्थिति तनावपूर्ण हो गई है। इस घटना के बाद पुलिस अधीक्षक को करीब एक हजार पुलिस जवानों के साथ शहर में पैदल मार्च करना पड़ा।

अपर पुलिस अधीक्षक लाल भरत कुमार पाल ने बताया, “शुक्रवार की दोपहर विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के करीब 50-60 कार्यकर्ता मोटरसाइकिलों पर सवार होकर शहर में घूम-घूम कर मीट की करीब सौ कथित अवैध दुकानें बंद करवाया, जिसके बाद शहर का मुस्लिम बाहुल्य मुहल्ला हाथीखाना में तनावपूर्ण स्थिति बन गई है। विहिप कार्यकर्ता और वर्ग विशेष के कुछ लोगों के बीच तीखी नोंक-झोंक भी हुई है।”

उन्होंने बताया कि “जिले के लगभग सभी थानों के पुलिस बल को शहर में बुलाया गया है और मामले पर कड़ी नजर रखी जा रही है। शाम को पुलिस अधीक्षक गणेश प्रसाद साहा करीब एक हजार पुलिस जवानों के साथ शहर के अन्य मुहल्लों के साथ ही हाथीखाना मुहल्ले में भी पैदल मार्च किया है, दोनों पक्षों से शांति बनाए रखने की अपील की गई है।”

हाथीखाना मुहल्ले की स्थानीय महिला हिना खान ने मीडिया से कहा, “करीब डेढ़ सौ मोटरसाइकिलों पर सवार भगवाधारी लोग पुलिस सुरक्षा के साथ उनके मुहल्ले आए और ‘जय श्री राम’ का नारा लगाते हुए उनके घरों के दरवाजे खटखटाये व मुस्लिमों को भद्दी-भद्दी गालियां दी। उस समय घरों में सिर्फ महिलाएं और बच्चे थे।”

महिला ने आगे कहा, “अभी हाल ही में तबरेज अंसारी का ऐसा ‘जय श्री राम’ हो गया है। बच्चों को कुछ नहीं मालूम, बस इतना मालूम है कि लोग आते हैं और जय श्री राम का नारा लगाकर मार कर चले जाते हैं। मुहल्ले के पुरुष जब अपनी दुकानें बंद कर शाम को वापस घर आये तो सभी एकत्र होकर पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारियों से मिलकर इन भगवाधारियों के इरादे की जांच और कार्रवाई की मांग की।’

वहीं विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के जिलाध्यक्ष चंद्रमोहन बेदी ने आरोप लगाते हुए कहा, “शहर में ज्यादातर मीट की अवैध दुकानें हैं, उन्हें हटवाने के लिए जिलाधिकारी को तीन जुलाई को ज्ञापन दिया गया था। जब जिलाधिकारी ने कुछ नहीं किया, तब आज विहिप के कार्यकर्ता इन दुकानों को खुद बंद कराने पुलिस के साथ गए थे। हाथीखाना मुहल्ले के कई घरों में अवैध तरीके से भैंसा काटे जाने के सबूत और गलियों में मांस के टुकड़े मिले हैं, जिन्हें पुलिस अधिकारियों को दिखाया गया है। किसी कार्यकर्ता ने किसी के साथ अभद्रता नहीं की है।”

पुलिस अधीक्षक गणेश प्रसाद साहा ने बताया कि हाथीखाना मुहल्ले में शुक्रवार शाम सात बजे से सुबह सात बजे बांदा नगर, कालिंजर और अतर्रा थाने के थानाध्यक्षों की ड्यूटी लगाई गई है।

उन्होंने आगे कहा, “किसी को कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं दी जाएगी और मामले की जांच करवाई जा रही है। अब स्थिति शांतिपूर्ण है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.