बाजार में गिरावट का दौर जारी: चार महीने के निचले स्तर पर निफ्टी, सेंसेक्स 289 अंक टूटकर 37,397 पर बंद

0
66

नई दिल्लीः भारतीय शेयर बाजार में आज बड़ी गिरावट देखने को मिली है. महीने के आखिरी कारोबारी दिनों में शेयर बाजार में छाई तेजी गायब हो गई और बाजार गिरावट के लाल दायरे में आ गए. बैंकिंग और रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयरों में आई कमजोरी के चलते आज घरेलू स्टॉक मार्केट में नरमी रही और कारोबार सुस्ती के साथ बंद हुए. बाजार की गिरावट का आलम ये रहा कि आज निफ्टी चार महीने के निचले स्तर पर आ गिरा.

कैसी रही बाजार की चाल
आज के कारोबार के दौरान बीएसई का 30 शेयरों वाला इंडेक्स सेंसेक्स 289.13 अंक यानी 0.77 फीसदी टूटकर 37,397.24 पर जाकर बंद हुआ और एनएसई का 50 शेयरों का इंडेक्स निफ्टी 103.80 अंक यानी 0.93 फीसदी की गिरावट के साथ 11,085.40 पर जाकर बंद हुआ है जो निफ्टी का पिछले चार महीने का निचला स्तर है. मार्च 11 के बाद निफ्टी का ये निचला स्तर देखा जा रहा है.

सेक्टोरियल इंडेक्स
आज के कारोबार के दौरान आईटी शेयरों को छोड़कर निफ्टी के बाकी सभी सेक्टोरियल इंडेक्स गिरावट के लाल निशान में बंद हुए हैं. पीएसयू बैंकों में सबसे ज्यादा 4.88 फीसदी की भारी गिरावट देखने को मिली है वहीं बैंकिंग शेयरों में सबसे ज्यादा गिरावट आई है और ये करीब 2 फीसदी टूटे हैं. मेटल में 3.25 फीसदी, मीडिया में 2.27 फीसदी और ऑटो शेयरों में 2.06 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है.

निफ्टी के शेयरों का कैसा रहा हाल
सुबह से ही निफ्टी के शेयरों में सुस्ती देखी जा रही थी और आज कारोबार बंद होते होते बड़ी मुश्किल से 10 शेयर तेजी के हरे निशान में आ सके. आज निफ्टी के 50 में से कुल 10 शेयरों में तेजी रही और एक अदानी पोर्ट्स का शेयर सपाट कारोबार के साथ बंद हुआ. बाकी 39 शेयरों में गिरावट रही. चढ़ने वाले शेयरों में भारती एयरटेल करीब 4 फीसदी, टीसीएस 2.17 फीसदी, एचसीएल टेक 0.74 फीसदी और विप्रो 0.71 फीसदी ऊपर बंद हुए.

निफ्टी के गिरने वाले शेयरों में यस बैंक 9.45 फीसदी की भारी गिरावट के साथ बंद हुआ और इंडसइंड बैंक 7.16 फीसदी टूटा. इसके अलावा इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस 6.57 फीसदी नीचे रहा. हीरो मोटोकॉर्प में 5.69 फीसदी की कमजोरी रही और सन फार्मा 4.80 फीसदी की गिरावट के साथ बंद हुआ.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.