अधीर रंजन पर हमलावर हुए अमर सिंह, कहा- 370 हटाए जाने का विरोध या तो पाकिस्तान कर रहा है या कांग्रेस

0
107

लखनऊ: राज्यसभा के बाद आज लोकसभा में अनुच्छेद 370 हटाए जाने का विरोध कांग्रेस को भारी पड़ गया. कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी के यूएन वाले बयान पर जमकर कांग्रेस की किरकिरी हुई. देखते ही देखते बीजेपी ने कांग्रेस को इसी मुद्दे पर घेर लिया और सदन में जमकर हंगामा हुआ. अधीर रंजन चौधरी के इस बयान के बाद लगातार पार्टी और नेताओं की प्रतिक्रियाएं आ रही है.

अमर सिंह ने क्या कहा

इसी कड़ी में राज्यसभा सांसद अमर सिंह ने कहा कि 370 हटाए जाने का विरोध पाकिस्तान कर रहा है और भारत में कांग्रेस. अमर सिंह ने कहा कि जो इस समय 370 हटाए जाने का विरोध करेगा वह पाकिस्तान की मदद करेगा और कांग्रेस वही कर रही है. अमर सिंह ने कहा कि अधीर रंजन चौधरी जुझारू नेता है लेकिन अनुभव कम है.

अधीर रंजन चौधरी का बयान जिसपर हुआ हंगामा
अधीर रंजन चौधरी अपनी बात रखने के लिए खड़े हुए. उन्होंने कहा, ”आप कश्मीर के अंदरूनी मसला बताते हैं लेकिन 1948 से संयुक्त राष्ट्र इस मामले को देख रहा है. इसे अंदरूनी मामला कैसे कह सकते हैं? हमने शिमला और लाहौर समझौते पर हस्ताक्षर किए, ये अंदरूनी मामले है या फिर द्विपक्षीय? कुछ दिन पहले एस जयशंकर ने अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो से कहा था कि कश्मीर द्विपक्षीय मुद्दा है, आप इसमें दखलअंदाजी नहीं कर सकते. क्या अब भी जम्मू-कश्मीर अंदरूनी मसला रह जाता है?”

अधीर रंजन की संयुक्त राष्ट्र वाली बात पर अमित शाह तुरंत हमलावर हो गए. अमित शाह ने कहा, ”जम्मू-और कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, इस पर कोई कानूनी विवाद नहीं है. जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, जम्मू-कश्मीर के संविधान में भी इसका उल्लेख है. जम्मू कश्मीर के मामलों को लेकर देश की संसद सर्वोच्च है और कानून बना सकती है.” इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जब मैं जम्मू और कश्मीर बोलता हूं तो पाक के कब्जे वाला कश्मीर (पीओके) और अक्साई चिन भी इसके अंदर आता है. हम इसके लिए जान दे देंगे, हम इस पर आक्रामक क्यों नहीं हों? क्या आप पीओके को भारत का हिस्सा नहीं मानते? हमारे संविधान ने जम्मू-कश्मीर की जो सीमाएं तय की हैं, उसमें पीओके भी आता है.

इसका कांग्रेस के कुछ सदस्यों ने विरोध किया और कहा कि चौधरी का यह आशय नहीं था. इस पर अमित शाह ने दोबारा अधीर रंजन चौधरी से बात रखने का आग्रह किया. चौधरी ने कहा कि वह इस विषय पर सरकार से सिर्फ स्पष्टीकरण चाहते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.