पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का निधन, आज दोपहर बीजेपी कार्यालय पर कर सकेंगे अंतिम दर्शन, शाम तीन बजे होगा अंतिम संस्कार

0
103

नई दिल्ली: पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का मंगलवार रात निधन हो गया. वह 67 वर्ष की थीं. सुषमा स्वराज को मंगलवार रात अचानक तबियत बिगड़ने के बाद एम्स में उन्हें करीब 9 से 10 बजे के बीच एम्स में एडमिट कराया गया. कुछ देर बाद ही एम्स ने मेडिकल बुलेटिन जारी करते हुए बताया कि उनका निधन हो गया. इसके बाद देशभर में शोक की लहर है.

रात करीब 12.30 बजे सुषमा स्वराज के पार्थिव शरीर को उनके दिल्ली स्थित घर ले जाया गया. सुबह 8 बजे से 11 बजे तक जंतर-मंतर स्थित उनके आवास पर उनका अंतिम दर्शन किया जा सकेगा. कल शाम करीब तीन बजे लोधी रोड पर सुषमा स्वराज का अंतिम संस्कार होगा.

बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बताया कि कल दोपहर 12 बजे से 3 बजे के बीच बीजेपी कार्यालय में सुषमा स्वराज के पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा. तीन बजे के बाद उनका अंतिम संस्कार होगा

सुषमा स्वराज के निधन की खबर सुनते ही राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी और स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन सहित कई वरिष्ठ नेता एम्स पहुंचे. सोशल मीडिया के जरिए तमाम नेताओं ने अपना दुख व्यक्त किया.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निधन पर मंगलवार को गहरा दुख व्यक्त किया और कहा कि भारतीय राजनीति के एक गौरवशाली अध्याय का अंत हो गया. मोदी ने ट्वीट किया, “भारतीय राजनीति में एक गौरवशाली अध्याय का अंत हो गया. भारत एक असाधारण नेता के निधन से शोकसंतप्त है, जिन्होंने जनसेवा और निर्धनों के जीवन में सुधार के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया. सुषमा जी अपने आप में अलग थीं और करोड़ों लोगों के लिए प्रेरणास्रोत थीं.”

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निधन पर दुख जताते हुए कहा कि सुषमा एक ऐसी अदभुत नेता थीं जिनके सभी पार्टियों के लोगों से मित्रवत रिश्ते थे. गांधी ने ट्वीट कर कहा, “सुषमा स्वराज जी के निधन के बारे में सुनकर स्तब्ध हूं. वह एक अद्भुत नेता थीं जिनकी पार्टी लाइन से इतर मित्रता थी.” उन्होंने कहा, “दुख की इस घड़ी में उनके परिवार के प्रति मेरी संवेदना है. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें. ऊॅं शांति.

बता दें कि आज जम्मू कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा समाप्त करने और राज्य को दो केन्द्रशासित प्रदेशों में बांटने के सरकार के कदम से बेहद प्रसन्न स्वराज ने मंगलवार को ट्वीट कर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बधाई दी थी. स्वराज ने ट्वीट किया था, “नरेन्द्र मोदी जी- धन्यवाद प्रधानमंत्री. आपका बहुत-बहुत धन्यवाद. मैं अपने जीवनकाल में यह दिन देखने का इंतजार कर रही थी.”

आपको बता दें है कि सुषमा स्वराज ने मोदी सरकार-1 में विदेश मंत्री का पद संभाला था. इस दौरान उन्होंने विदेश में रह रहे भारतीयों के लिए जिस तरह से काम किया था, उसके लिए उनकी काफी तारीफ हुई. 2019 के चुनाव उन्होंने लोकसभा चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया था. सुषमा अप्रैल 1990 में सांसद बनीं. अटल बिहारी वाजपेयी की तेरह दिनों की सरकार में सुषमा स्वराज सूचना प्रसारण मंत्री रहीं. अक्टूबर 1998 में उन्होंने केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दिया और दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री बनीं. 


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.