डेविस कप: तनाव का असर खेल पर भी, भारतीय टेनिस टीम का पाकिस्तान जाने से इनकार

0
98

नई दिल्ली: पाकिस्तान से तनाव का असर खेल के मैदान पर भी पड़ रहा है. टेनिस टूर्नामेंट के लिए भारतीय टीम को पाकिस्तान जाना है लेकिन टीम ने पाकिस्तान जाने से मना कर दिया है. इस्लामाबाद में 16 सितंबर से डेविस कप होना है. संभावना जताई जा रही है कि ऑल इंडिया टेनिस एसोशिएसन इंटरनेशनल टेनिस एसोशिएसन से मांग करे कि किसी न्यूट्रल जगह पर मैच कराए जाएं. भारतीय टीम की सुरक्षा को लेकर सरकारी सूत्रों ने आशंका जताई है. टीम के पाकिस्तान जाने संबंधी आखिरी फैसला विदेश मंत्रालय लेगा.

55 साल बाद भारतीय टेनिस टीम पाकिस्तान जाकर खेलने वाली थी. इस टीम में प्रजनेश गणेस्वर्ण, रामकुमार रामनाथ, साकेत मयंती, रोहन बोपन्ना और दिविज शरण शामिल हैं. इसके साथ ही महेश भूपति टीम के साथ नॉन प्लेइंग कैप्टन के तौर पर जुड़े हैं जबकि टीम के कोच जीशान अली हैं. बता दें कि जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान बौखला गया है और इसी बौखलाहट में उल्टे सीधे फैसले ले रहा है. पाकिस्तान ने भारत के साथ राजनयिक और व्यापारिक संबंध खत्म करने का फैसला किया है. इसी फैसले के बाद टेनिस खिलाड़ियों ने पाकिस्तान दौरे से इनकार कर दिया है.

बौखलाए पाकिस्तान ने BAT और आतंकियों को उकसाया- सूत्र
सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान ने आतंकी संगठनों से करो या मरो जैसे कदमउठाने के लिए कहा है. सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान में मौजूद आतंकी संगठन भारतीय सुरक्षाबलों पर फिदायीन हमले को अंजाम दे सकते हैं. एलओसी पर पाकिस्तान की कुख्यात बैट टीम भी हमले की फिराक में है. इसी को देखते भारतीय खुफिया एजेंसियों ने अलर्ट जारी किया है.

सूत्रों के मुताबिक एजेंसियों ने आतंकियों के कुछ इंटरसेप्ट पकड़े हैं, जिनमें आतंकी बड़े हमले का निर्देश दे रहे हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक खुफिया एजेंसियों से मिले इनपुट के आधार पर देशभर में अलर्ट जारी कर दिया गया है. दिल्ली, जम्मू, श्रीनगर, गुवाहाटी, अगरतला, मुंबई, कोलकाता और चेन्नई समेत देश के 19 एयरपोर्ट को हाई अलर्ट पर रखा गया है. इन एयरपोर्ट पर सुरक्षा के अतिरिक्त इंतजाम करने के निर्देश दिए गए हैं.

बौखलाहट में पाकिस्तान ने अब तक क्या-क्या किया?
-भारत के साथ व्यापारिक संबंध तोड़े.
-भारत के साथ द्विपक्षीय संबंधों को कम करने का फैसला.
-भारत के उच्चायुक्त अजय बिसारिया को वापस भेजने का फैसला किया.
-कश्मीर मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र में उठाने की बात कही.
-भारत की सीमा से लगे एयरस्पेस को बंद किया.
– द्विपक्षीय समझौतों की समीक्षा करने का फैसला किया.

पाकिस्तान को ही होगा नुकसान
विशेषज्ञों का कहना है कि भारत के साथ द्विपक्षीय व्यापार संबंधों को निलंबित करने के पाकिस्तान के निर्णय से ज्यादा नुकसान उसी को होगा. उनका कहना है कि इसकी मुख्य वजह यह है कि पाकिस्तान अपने पड़ोसी भारत से कई आवश्यक वस्तुओं का आयात करता है. निर्यातकों के संगठन फियो के महानिदेशक अजय सहाय ने कहा कि पाकिस्तान द्वारा व्यापार संबंधों को निलंबित करने का बुरा असर पाकिस्तान पर ही होगा. क्योंकि भारत इस मामले में उस पर बहुत ज्यादा निर्भर नहीं है जबकि पाकिस्तान की भारत पर निर्भरता अपेक्षाकृत अधिक है.

पाकिस्तान से भारत का आयात इस वर्ष मार्च में घट कर 28.4 करोड़ डॉलर के बराबर रहा जबकि मार्च 2018 में यह आंकड़ा 3.5 करोड़ डॉलर था. इस दौरान भारत का इस पड़ोसी देश को निर्यात भी सालाना आधार पर 32 प्रतिशत घट कर 17.13 करोड़ रहा. लेकिन वित्त वर्ष 2018-19 में भारत का पाकिस्तान को निर्यात कुल मिला कर 7.4 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 2 अरब डॉलर रहा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.