विदेश जा रहे शाह फैसल को दिल्ली एयरपोर्ट से वापस भेजा गया कश्मीर, हिरासत में लिया गया

0
162

श्रीनगर: पूर्व आईएएस अधिकारी शाह फै़सल को बुधवार को दिल्ली हवाई अड्डे पर हिरासत में लेकर वापस कश्मीर भेज दिया गया. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि फै़सल को श्रीनगर पहुंचने पर जन सुरक्षा अधिनियम (पीएसए) के तहत फिर से हिरासत में लिया गया. अधिकारियों ने बताया कि फै़सल इस्तांबुल जाने वाले थे. उन्हें बुधवार को सुबह हवाई अड्डे पर हिरासत में लिया गया.

जम्मू कश्मीर के पूर्व नौकरशाह फैसल ने अपने पद से इस्तीफा दे कर एक नयी राजनीतिक पार्टी गठित की है. अधिकारियों ने बताया कि दिल्ली हवाई अड्डे पर हिरासत में लिए जाने के बाद श्रीनगर पहुंचने पर उन्हें जन सुरक्षा अधिनियम (पीएसए) के तहत फिर से हिरासत में लिया गया. गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त किए जाने के बाद फैसल ने कहा था कि कश्मीर में अप्रत्याशित बंद चल रहा है और उसकी 80 लाख की आबादी कैद कर ली गई है, ऐसा पहले कभी नहीं हुआ.

कैन हैं शाह फैसल

शाह फैसल पहले आईएएस ऑफिसर थे. इसके बाद उन्होंने आईएएस की नौकरी से इस्तीफा देने के बाद अपनी राजनीतिक पार्टी बनाई. उनकी पार्टी का नाम ‘जम्मू एंड कश्मीर पीपल्स मूवमेंट’ (जेकेपीएम) पार्टी है. बता दें कि शाह फैसल साल 2009 में भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) की परीक्षा में टॉपर रहे हैं. आईएएस परीक्षा टॉप करने वाले वह पहले कश्मीरी हैं.

सिविल सेवा परीक्षा में 2009 में देशभर में अव्वल रहने वाले पहले कश्मीरी होने की वजह से चर्चा में आए. स्टडी लीव पर गए शाह फैसल ने एक ट्वीट किया था. वह पोस्ट कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग को नागवार गुजरा और उन्हें नोटिस भेजा गया.नोटिस मिलने के बाद शाह फैसल ने उसकी एक प्रति ट्वीट किया था. फैसल ने लिखा था, दक्षिण एशिया में बलात्कार के चलन के खिलाफ मेरे व्यंग्यात्मक ट्वीट के एवज में मुझे मेरे बॉस से प्रेम पत्र (नोटिस) मिला.

क्यों दिया था इस्तीफा
इस्तीफे की वजह बताते हुए फैसल ने कहा कि उन्होंने कश्मीर में लगातार हो रही हत्याओं के मामलों और इन पर केंद्र सरकार की ओर से कोई गंभीर प्रयास नहीं होने के कारण, भारतीय प्रशासनिक सेवा से इस्तीफा देने का फैसला लिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.