अमित शाह बोले- सबसे मजबूत इच्छाशक्ति वाले पीएम हैं मोदी, उन्होंने ऐसे कदम उठाए जो किसी ने सोचे तक नहीं

0
37

नई दिल्ली: केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने सरकार की उपलब्धियों और नीतियों को लेकर हिंदी समाचार पत्र दैनिक जागरण में लेख लिखा है. इस लेख में अमित शाह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मजबूत इच्छा शक्ति वाला नेता बताया है. उन्होंने लिखा है कि मजबूत इच्छाशक्ति से पीएम मोदी ने उठाया ऐसा कदम, जिसे कभी किसी सरकार ने सोचा तक नहीं. इसके साथ ही गृहमंत्री ने अपने लेख में अनुच्छेद- 370/35-ए, अर्थव्यवस्था और चंद्रयान समेत कई मुद्दों पर अपनी बात रखी है.

अपनी सरकार की प्राथमिकताओं की बात करते हुए उन्होंने लिखा कि मोदी सरकार की नीतियों में गरीबों के कल्याण के प्रति चिंता और अन्तोदय का भाव स्पष्ट नजर आता है. सामान्य जन के जीवन में बदलाव लाना मोदी सरकार की प्राथमिकता है. अमित शाह ने लिखा, ”जनधन, मुद्रा, सौभाग्य, स्वच्छ भारत, श्रमयोगी मानधन पेंशन, किसान पेंशन और लघु व्यापारी मानधन जैसी दर्जनों योजनाओं के माध्यम से सरकार ने आमजन के जीवन-स्तर को ऊपर उठाने और उन्हें सामाजिक-आर्थिक रूप से मजबूत बनाने का प्रयास किया है.”

पीएम मोदी की मजबूत इच्छाशक्ति का जिक्र करते हुए गृहमंत्री लिखा, ”यह भी मोदी जी की दृढ़ इच्छाशक्ति ही है कि वह विषम राजनीतिक परिस्थितियों में भी अनेक कठिन फैसले ले सके. कभी असंभव से दिखने वाले सर्जिकल एवं एयर स्ट्राइक जैसे फैसले लेना मोदी जी को देश का अब तक का सबसे मजबूत इच्छाशक्ति वाला प्रधानमंत्री साबित करता है.” उन्होंने लिखा कि अमीर और गरीब की खाई पाट कर सबको एक साथ लेकर चलने की नीति प्रधानमंत्री मोदी के इस कथन से स्पष्ट होती है कि देश में सिर्फ दो वर्ग हैं, एक गरीब और दूसरा गरीबी हटाने वाला.

जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35ए के हटने का श्रेय भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मजबूत इच्छाशक्ति को ही दिया. अमित शाह ने लिखा, ”तुष्टीकरण की राजनीति और इच्छाशक्ति की कमी के कारण किसी भी नेता या सरकार ने इसे हटाने का साहस नहीं किया. उन्होंने लिखा कि यह एक देश एक संविधान के सपने को पूरा करने की मोदी जी की मजबूत इच्छाशक्ति ही थी कि जम्मू-कश्मीर को अनुच्छेद- 370/35-ए से मुक्ति मिल सकी.

कांग्रेस पर हमला करते हुए केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि अपने 55 वर्षों के शासन में कांग्रेस को आठ बार पूर्ण बहुमत वाला जनादेश मिला, लेकिन उसने शायद दस काम भी ऐसे नहीं किए जिनसे देश को निर्णायक दिशा मिली हो. उन्होंने लिखा कि देश में पहली बार 2014 में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में पूर्ण बहुमत की एक गैर कांग्रेसी सरकार बनी. मोदी जी के प्रधानमंत्री बनने के बाद देश में परिवर्तन की जो बयार बहती दिख रही है उसके पीछे मजबूत नेतृत्व और विकासोन्मुख नीतियां हैं.

अपने लेख में अमित शाह ने कहा कि ऐसे फैसले लिए जो आमजन के हित में हों और जरूरी नहीं कि वह लोक लुभावने और देखने में अच्छे लगने वाले हों. उन्होंने लिखा कि इस सरकार ने सिद्ध किया है कि जब देशहित में कठिन निर्णय लिए जाते हैं तो जनता भी समर्थन देने में पीछे नहीं हटती. इसका सबसे ज्वलंत प्रमाण 2019 के आम चुनाव में नरेंद्र मोदी का 2014 के जनादेश से बड़े जनादेश के साथ दोबारा प्रधानमंत्री बनना है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.