चंद्रयान-2 मिशन की सफलता के लिए वाराणसी के साधुओं-बटुकों ने किया खास अनुष्ठान

0
80

वाराणसी: अन्तरिक्ष में अपना परचम लहरा कर एक इतिहास रचने जा रहे भारत और भारत के अन्तरिक्ष वैज्ञानिकों के लिए छह सितम्बर का दिन बेहद महत्वपूर्ण है. चंद्रयान-2 लैंडर- विक्रम चन्द्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास लैंड करेगा.

चंद्रयान-2 सफलता के साथ अपने मिशन को पूरा करे इसके लिए धर्म की नगरी कहे जाने वाले वाराणसी में साधू संतों और बटुकों ने वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ यज्ञ-हवन और पूजन करके ईश्वर से प्रार्थना की.

अपने हाथों में देश का राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा और चंद्रयान-2 की सफलता के पोस्टर लेकर ईश्वर की शरण में बैठ कर प्रार्थना कर रहे साधू संत और बटुक चाहते हैं कि लैंडर-विक्रम चन्द्रमा की सतह पर सफलता पूर्वक उतरे और इसरो को हर सफलता हासिल हो.

इन लोगों ने वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ सफलता के विशेष मंत्रों से अनुष्ठान करके अग्नि में आहूतियां समर्पित कीं. आपको बता दें कि भारतीय अन्तरिक्ष वैज्ञानिकों ने लगभग दस वर्षों की कठिन तपस्या, शोध और अनुसन्धान के कार्यों को सम्पूर्ण करने के बाद चंद्रयान-2 को चन्द्रमा की कक्षा में स्थापित करने में सफलता प्राप्त की है.

चन्द्रयान-2 से चांद की भौगोलिक संरचना, भूकंपीय स्थिति, खनिजों की मौजूदगी और उनका वितरण, सतह की रासायनिक संरचना, ऊपर मिटटी का ताप, भौतिक विशेषताओं का अध्ययन करके चन्द्रमा के अस्तित्व में आने तथा उसके क्रमिक विकास के बारे में कई जानकारियां मिल सकेंगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.