आतंकियों को पनाह, प्रशिक्षण देने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जरूरत : मोदी

0
105

मथुरा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को यहां कहा कि आज आतंकवाद विचारधारा बन गया है, जो हमारे पड़ोस में फल-फूल रहा है। हमने सबक सिखाया है और आगे भी सिखाएंगे। उन्होंने कहा कि समस्या आतंक की हो या पर्यावरण की, मिलकर लड़ना होगा, और आतंकवादियों को पनाह और प्रशिक्षण देने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जरूरत है। प्रधानमंत्री मोदी ने यहां वृहद पशु आरोग्य मेला का शुभारंभ करने के साथ पशुपालन और दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र में विभिन्न योजनाओं का भी शुभारंभ किया। प्रधानमंत्री ने कहा, “आज के ही दिन (11 सितंबर) दुर्भाग्य से अमेरिका में बड़ा आतंकी हमला हुआ था, जिससे दुनिया दहल गई थी। आज आतंकवाद एक विचारधारा बन गया है। यह ग्लोबल समस्या है। जिसकी मजबूत जड़ें हमारे पड़ोस में फल-फूल रही हैं। आतंकवादियों को पनाह और प्रशिक्षण देने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जरूरत है। भारत इस चुनौती से निपटने के लिए पूरी तरह सक्षम है।”

मोदी ने कहा, “स्वच्छ भारत हो, जल जीवन मिशन हो या फिर कृषि और पशुपालन को प्रोत्साहन, प्रकृति और आर्थिक विकास में संतुलन बनाकर ही हम सशक्त और नए भारत के निर्माण की तरफ आगे बढ़ रहे हैं। आज स्वच्छता ही सेवा अभियान की शुरुआत हुई है, नेशनल एनिमल डिजीज कंट्रोल प्रोग्राम को भी लॉन्च किया गया है। पशुओं के स्वास्थ्य, पोषण, डेरी उद्योग और कुछ अन्य परियोजनाएं भी शुरू हुई हैं। इसके अलावा मथुरा के इंफ्रास्ट्रक्चर और पर्यटन से जुड़ी कई परियोजनाओं का भी शुभारंभ हुआ है।”

उन्होंने कहा, “महात्मा गांधी की 150वीं जयंती का यह प्रेरणा का वर्ष है। ‘स्वच्छता ही सेवा’ के पीछे भी यही भावना छिपी हुई है। उसको अपनाने का संकल्प ही गांधी जी को सच्ची श्रद्घांजलि है।”

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज गाय का नाम सुनकर लोगों के बाल खड़े हो जाते हैं। ओम नाम सुनकर लोगों के बाल खड़े हो जाते हैं।

जल जीवन मिशन के बारे में मोदी ने कहा कि जल संरक्षण पर बल दिया जा रहा है, और इसका लाभ गांव में रहने वाले किसानों को मिलेगा। 

उन्होंने कहा, “कचरे से कंचन की सोच ही हमारे पर्यावरण की रक्षा करेगी, आसपास के वातावरण को स्वच्छ बनाएगी। अपनी आदतों में भी हमें परिवर्तन करने होंगे। हमें यह तय करना है कि जब भी दुकान, बाजार में खरीदारी के लिए जाएं तो साथ में अपना थैला, बैग अवश्य ले जाएं। पैकिंग के लिए दुकानदार प्लस्टिक का उपयोग कम से कम करें। सरकारी कार्यक्रमों में भी प्लास्टिक की बोतलों के बजाए मिट्टी के बर्तनों या मेटल की व्यवस्था हो।”

मोदी ने कहा, “स्वच्छता ही सेवा के पीछे यही भावना जुड़ी है। प्लास्टिक से होने वाली समस्या समय के साथ गंभीर होती जा रही है। प्लास्टिक पशुओं की मौत का कारण बन रही है। नदियां, झीलों और तलाबों में रहने वाले जीवों का प्लास्टिक निगलने के बाद जिंदा बचना मुश्किल हो रहा है। सिंगल यूज प्लास्टिक से छुटकारा पाना ही होगा। हमें ये कोशिश करनी है कि इस वर्ष दो अक्टूबर तक अपने घरों, दुकानों, कार्यक्षेत्रों को सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त करें।”

उन्होंने कहा, “ब्रजभूमि ने हमेशा से ही पूरे विश्व और पूरी मानवता को प्रेरित किया है। आज पूरा विश्व पर्यावरण संरक्षण के लिए रोल मॉडल ढूंढ़ रहा है, लेकिन भारत के पास भगवान श्रीकृष्ण जैसा प्रेरणा स्रोत हमेशा से रहा है, जिनकी कल्पना ही पर्यावरण प्रेम के बिना अधूरी है।”

मोदी ने कहा, “स्वच्छता और स्वास्थ्य की दिशा में योगी सरकार का कार्य प्रशंसनीय है। इंसेफलाइटिस की दिशा में योगी सरकार ने सराहनीय कार्य किया। गंभीर बीमारी को स्वच्छता के माध्यम से काबू किया। मस्तिष्क ज्वर के कारण पार्लियामेंट में योगी जी दर्दनाक कथा सुनाकर देश को जगाने की कोशिश करते थे।”

प्रधानमंत्री ने कहा, “पांच साल में दूध उत्पादन में सात फीसदी की वृद्धि हुई है। सरकार बनने के बाद 100 दिन में जो कड़े फैसले लिए गए, इनमें पशुओं का टीकाकरण भी एक है। हमारे पशु बार-बार बीमार न हों, इसीलिए आज 13 हजार करोड़ रुपये की योजना शुरू की गई। स्टॉर्टअप ग्रांड चैलेंज से युवा जुड़ें। प्लास्टिक का विकल्प तलाशें। नए आइडिया लाएं। देश की समृद्घि का रास्ता देश की मिट्टी से ही निकलेगा। रोजगार के अवसर भी शुरू होंगे।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.