अफवाहों पर लगाम लगाने के लिए RBI ने फिर दिलाया भरोसा, कहा- बैंकिंग सिस्टम पूरी तरह सुरक्षित है

0
180

नई दिल्लीः जब से पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक पर कुछ प्रतिबंध लगाए हैं तब से ही देश के बैंकिंग सिस्टम को लेकर कई अफवाहें सोशल मीडिया पर फैल रही हैं. आज फिर रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने इन सभी अफवाहों को खारिज किया है. रिजर्व बैंक ने इसके बारे में ट्वीट किया है और लोगों से न घबराने के लिए कहा है.

रिजर्व बैंक ने आज अपने ट्वीट में कहा कि कुछ इलाकों में को-ऑपरेटिव बैंकों समेत कई बैंकों को लेकर अफवाहें चल रही हैं जिनकी वजह से खाताधारकों में घबराहट है. आरबीआई सामान्य जनता को इस बात का भरोसा दिलाना चाहता है कि भारतीय बैंकिंग सिस्टम पूरी तरह सुरक्षित और स्थिर है और ऐसी किन्हीं भी अफवाहों के आधार पर लोगों को घबराने की बिलकुल जरूरत नहीं है.

दरअसल 9 दिन पहले आरबीआई ने पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक पर प्रतिबंध लगा दिए थे और बैंक के खाताधारकों के रोजाना 1000 रुपये से ज्यादा की रकम निकालने पर रोक लगा दी थी. इसके साथ ही अब बैंक किसी ग्राहक को नया लोन जारी नहीं कर पाएगा. हालांकि इसके बाद खाताधारकों में भारी पैनिक होने के चलते आरबीआई ने कुछ राहत का एलान किया और अकाउंट होल्डर्स को 10,000 रुपये निकालने की इजाजत दे दी.

इस घटना के बाद से ही सोशल मीडिया पर अफवाहों का बाजार गर्म हो गया और व्हाट्सएप और फेसबुक प्लेटफॉर्म पर इसको लेकर कई मैसेज सर्कुलेट होने लगे जिसके बाद लोगों में घबराहट बढ़ती गई. इसको लेकर हाल ही में 25 सितंबर को भी आरबीआई की ओर से संदेश जारी किया गया था और लोगों से अफवाहों पर भरोसा न करने के लिए कहा गया था. आरबीआई ने उस संदेश के दौरान साफ-साफ कहा है कि सोशल मीडिया पर ऐसे दावे किए जा रहे हैं कि केंद्रीय बैंक यानी आरबीआई कुछ कमर्शियल बैंकों को बंद करने जा रहा है जो कि पूरी तरह गलत हैं.

इसके अलावा 25 सितंबर को ही वित्त सचिव राजीव कुमार ने भी सामने आकर कहा कि किसी भी सरकारी बैंक को बंद करने का सवाल ही नहीं उठता है और वो विश्वास का प्रतीक हैं. इसकी बजाए सरकारी बैंकों को सरकार के जरिए और मजबूत किया जा रहा है, उनके लिए आर्थिक सुधार किए जा रहे हैं और उनमें पूंजी डाली जा रही है जिससे कि वो अपने ग्राहकों की बेहतर सेवा कर सकें.


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.