महाराष्ट्र चुनाव: बीजेपी-शिवसेना में गठबंधन तय लेकिन सीट बंटवारे पर इन सवालों का नहीं मिला जवाब

0
130

नई दिल्ली: महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना के गठबंधन का एलान तो सोमवार को ही हो गया था आज सीटों का बंटवारा भी काफी हद तक साफ हो गया है. लेकिन कुछ सवाल ऐसे हैं जिनके जवाब अभी पूरी तरह नहीं दिए गए हैं. बीजेपी ने आज महाराष्ट्र में अपने महारथियों की पहली लिस्ट जारी की, इस दौरान बीजेपी ने शिवसेना के साथ मिलकर चुनाव लड़ने की बात कही. बीजेपी की लिस्ट आने के करीब एक घंटे बाद शिवसेना ने भी अपने उम्मीदवारों का एलान कर दिया. इस सीट बंटवारे के बाद भी अभी कई सवाल ऐसे हैं जिनका जवाब साफ साफ सामने नहीं आया है.

पहले जानिए- दोनों पार्टियों में कैसे हुआ सीट बंटवारा?
महाराष्ट्र में विधानसभा की कुल 288 सीटें हैं. बीजेपी ने 125 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी की उधर शिवसेना ने 124 सीटों की लिस्ट जारी की और उसमें 70 उम्मीदवारों के नाम घोषित कर दिए. बीजेपी की 125 और शिवसेना की 124 मिलाकर ये नंबर 249 सीटों पर पहुंचता है. बीजेपी ने जो उम्मीदवारों की लिस्ट निकाली है, उसमें मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस नागपुर साउथ वेस्ट से लडेंगे. बीजेपी ने अपने 52 मौजूदा विधायकों पर दोबारा भरोसा जताया है जबकि 12 मौजूदा विधायकों के टिकट काटे गए हैं.

इन सवालों का जवाब मिलना बाकी?
महाराष्ट्र में आज की इस राजनीतिक हलचल के बाद कुछ सवाल भी उठ रहे हैं. पहला बड़ा सवाल यही है कि आज से सीट बंटवारे के हिसाब से बची हुई 39 सीटें का क्या होगा ? बीजेपी-शिवसेना का गठबंधन हुआ लेकिन सीटों की तस्वीर पूरी तरह साफ क्यों नहीं की ? साथ-साथ लड़ रहे हैं लेकिन गठबंधन का एलान करने के लिए बड़े नेता सामने क्यों नहीं आए ? पहले खबर थी कि फडणवीस और उद्धव ठाकरे एक साथ आकर गठबंधन और सीट बंटवारे का एलान करेंगे. महाराष्ट्र में लगातार आधी सीटों की मांग कर रही शिवसेना कम सीटों पर क्यों मान गई?

विधानसभा चुनाव 2014 के नतीजे
बता दें कि महाराष्ट्र में विधानसभा की कुल 288 सीटें हैं. बीजेपी-शिवसेना के बीच 249 सीटों पर सहमति बन गई है. बाकी की बची 39 सीटों पर फैसला होना अभी बाकी है. 2014 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी और शिवसेना अलग-अलग चुनाव लड़ी थी. हालांकि चुनाव बाद दोनों दलों ने गठबंधन कर लिया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.