महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव: आधी सीटों की मांग करने वाली शिवसेना कम सीटों पर क्यों मान गई?

0
126

मुंबई: महाराष्ट्र में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर बीजेपी और शिवसेना के बीच गठबंधन फाइनल हो गया. इसके साथ ही बीजेपी ने 125 उम्मीदवारों की लिस्ट भी जारी कर दी है. शिवसेना 124 सीटों पर चुनाव लड़ेगी लेकिन उसने सिर्फ 70 उम्मीदवारों का एलान किया. दोनों पार्टियों ने उम्मीदवारों का एलान तो कर दिया लेकिन सीटों को लेकर तस्वीर अभी साफ नहीं है. बीजेपी की 125 और शिवसेना की 124 मिलाकर हुई 249 सीटें, जबकि राज्य में विधानसभा की कुल 288 सीटें हैं. अब सवाल है कि बची हुई 39 सीटों का क्या होगा.

इसके साथ ही महाराष्ट्र में लगातार आधी सीटों की मांग कर रही शिवसेना कम सीटों पर क्यों मान गई, यह भी एक सवाल है. मंगलवार को बीजेपी की लिस्ट जारी होने के करीब एक घंटे बाद शिवसेना ने भी अपने उम्मीदवारों का एलान कर दिया. ये फाइनल है कि गठबंधन में शिवसेना को 124 सीटें ही मिली हैं. कार्यकर्ता कम सीटों पर विद्रोह ना करें इसलिए शिवसेना ने अभी सिर्फ 70 उम्मीदवारों का एलान किया है.

टिकट और नाराजगी

कल्याण पश्चिम में बीजेपी के मौजूदा विधायक नरेंद्र पवार को सीट दिए जाने का आग्रह किया लेकिन शिवसेना ये सीट खुद के लिए मांग रही है. वहीं किनवट में भी शिवसेना, रामदास आठवले की पार्टी को सीट देने के विरोध में है. वडाला में शिवसेना की इच्छुक उम्मीदवार श्रद्धा जाधव बीजेपी के कालिदास कोलंबकर को टिकट देने से नाराज़ हैं. इसके अलावा मुंबादेवी सीट पर शिवसेना ने पांडुरंग सकपाल को एबी फॉर्म दिया है जबकि बीजेपी अतुल शाह को टिकट देने पर विचार कर रही है.

कम सीटों में क्यों मान गई शिवसेना

दरअसल शिवसेना को सत्ता में बने रहना है. पार्टी को पता है कि अगर वह अकेले चुनाव लड़ती है तो नहीं जीतेगी. इस बार तो शिवसेना प्रमुख आदित्य ठाकरे के बेटे में चुनाव लड़ रहे हैं. ऐसे में शिवसेना की नजर डिप्टी सीएम की कुर्सी पर भी है.

विधानसभा चुनाव 2014 के नतीजे

बता दें कि महाराष्ट्र में विधानसभा की कुल 288 सीटें हैं. बीजेपी-शिवसेना के बीच 249 सीटों पर सहमति बन गई है. बाकी की बची 39 सीटों पर फैसला होना अभी बाकी है. 2014 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी और शिवसेना अलग-अलग चुनाव लड़ी थी. हालांकि चुनाव बाद दोनों दलों ने गठबंधन कर लिया था.


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.