बिहार: पटना में बाढ़ से स्थिति विकट, सीएम नीतीश ने विज्ञापन देकर जनता से मांगी मदद

0
132

पटना: बिहार की राजधानी पटना में बाढ़ से स्थिति विकट है. बारिश तो दो दिन से नहीं हुई है, लेकिन बारिश का जो पानी पटना में जमा हुआ था वो निकलने का नाम नहीं ले रहा है. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज के अखबारों में विज्ञापन देकर लोगों से मुख्यमंत्री राहत कोष में खुलकर दान देने की अपील की है. आपदा के 100 घंटे के बाद कल नीतीश कुमार ने रात के अंघेरे में पटना के हालात का जायजा भी लिया.

सीएम नीतीश कुमार ने बाढ़ को प्राकृति आपदा बताते हुए लोगों से पैसे मांगे हैं. इस विज्ञापन में देश के लोगों के साथ ही विदेशियों से भी राहत कोष में मदद की अपील की गई है.

हथिया नक्षत्र की वजह से हुई भारी बारिश- नीतीश

वहीं, पटना की भारी बारिश को लेकर सीएम नीतीश कुमार ने बड़ा दावा किया है. नीतीश प्रकृति और ग्रह नक्षत्र का बहाना बनाकर अपने 14 साल के कथित सुशासन पर पर्दा डालने की लगातार कोशिश कर रहे हैं. नीतीश ने कहा है कि भारी बारिश हथिया नक्षत्र की वजह से हो रही है. कहते हैं हथिया नक्षत्र में बहुत बारिश होती है.

सवाल पूछे तो मीडिया पर भड़के नीतीश

नीतीश कुमार ने मंगलवार को पटना के जलमग्न हो गए इलाकों का निरीक्षण किया और अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए. इस दौरान मीडिया के सवालों का जवाब दे रहे सीएम नीतीश कुमार उल्टा उन्हीं पर भड़क गए और सवाल पूछने वाले रिपोर्टरों के ज्ञान पर सवाल उठाते रहे. नीतिश ने कहा, ‘’मैं पूछ रहा हूं कि देश और दुनिया के कितने हिस्सों में बाढ़ आई है? क्या पटना के कुछ हिस्सों में पानी ही एकमात्र समस्या है? क्या हुआ अमेरिका में?” राहत-बचाव काम को लेकर उन्होंने कहा, ” राहत का काम जारी है. लोगों को इस मुश्किल से निकालने का काम जारी है.”

बिहार में अबतक 42 लोगों की मौत

राज्य में भारी बारिश से मरने वाले 42 लोगों में भागलपुर में दस, गया में छह, पटना और कैमूर में चार-चार, खगड़िया और भोजपुर में तीन-तीन, बेगूसराय, नालंदा और नवादा में दो-दो, पूर्णिया, जमुई, अरवल, बांका, सीतामढी और कटिहार में एक-एक व्यक्ति शामिल हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.