जलवायु परिवर्तन से समुद्री सुरक्षा को खतरा : करमबीर सिंह

0
132

पणजी, 4 अक्टूबर (आईएएनएस)| भारतीय नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह ने शुक्रवार को कहा कि समुद्री डकैती के अलावा प्राकृतिक घटनाएं जैसे कि जलवायु परिवर्तन, समुद्र के जलस्तर का बढ़ना और प्राकृतिक आपदाओं से समुद्री सुरक्षा को खतरा है। गोवा मैरीटाइम कॉनक्लेव (जीएमसी) के दूसरे संस्करण को संबोधित करते हुए सिंह ने यह भी कहा कि सहकारिता की आवश्यकता के साथ-साथ अद्वितीय क्षेत्रीय समाधानों की भी आवश्यकता है।

जीएमसी में हिंद महासागर के आसपास के क्षेत्रों में स्थित कुछ मुख्य नौसेना केंद्र भी भागीदार हैं।

करमबीर सिंह ने कहा, “जलवायु परिवर्तन, समुद्री जलस्तर का बढ़ना, प्राकृतिक आपदाएं वर्तमान समय में सुस्पष्ट रूप में खतरे पैदा करती है। समुद्री आतंक, नशीली दवाओं की तस्करी आईयूयू (अवैध, असूचित, अनियंत्रित ), अवैध तरीके से मछलियों को पकड़ना और उनका क्रय-विक्रय करना इत्यादि ने पूरे क्षेत्र में तेजी ने नौसेना पर अपना डेरा जमा लिया है।”

उन्होंने आगे कहा, “यहां मानने वाली बात यह है कि कोई भी एक देश यह सब अकेले नहीं कर सकता है। महासागरों की विशालता को केवल हमारी व्यक्तिगत संसाधनों की अपर्याप्तता से नुकसान पहुंच रहा है। अकेले कोई भी इस चुनौती का सामना नहीं कर सकता। वर्तमान में हो रही प्राकृतिक आपदाओं के चलते इस पर भी गौर फरमाना जरूरी है।”

जीएमसी की कल्पना एक ऐसे मंच के रूप में की गई थी, जहां हिंद महासागर के आसपास के क्षेत्रों में उपस्थित समान विचारधारा वाले नौसेना केंद्र इस तरह की बातचीत उच्चस्तर पर कर सकते हैं।

इस फोरम ने एक ऐसे संस्था के रूप में भी काम किया है जिसने हितधारकों के साथ बातचीत कर समुद्री सुरक्षा के लिए सहकारी पहल को अपना समर्थन दिया है।

सिंह ने समुद्री एजेंसियों से इस चिंताजनक विषय पर बात करने और सहयोग करने का निवेदन किया है और इसके साथ ही यह भी कहा है कि इसका समाधान प्रत्येक संबंधित क्षेत्र के लिए अनोखा होना चाहिए।

उन्होंने आगे कहा, “एक ही साइज सभी को फिट नहीं आ सकता। इन मुद्दों की खासियत, परिचालन प्रतिमान और भू-राजनीतिक संदर्भ को समझते हुए क्षेत्रीय समस्याओं के लिए क्षेत्रीय समाधानों की आवश्यकता है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.