एविएशन / विमान में ब्लीड स्विच ऑन करना भूले, यात्रियों की सांसें उखड़ीं; दोनों पायलट 4 महीने के लिए निलंबित

0
133

जयपुर. स्पाइसजेट की फ्लाइट में 14 जून को यात्रियों को सांस लेने में परेशानी हुई थी। इस मामले में डीजीसीए ने विमान उड़ा रहे दोनों पायलट कैप्टन सुनील मेहता और कैप्टन विक्रम सिंह के लाइसेंस 4 महीने के लिए सस्पेंड कर दिए हैं। जांच में पाया गया है कि दोनों पायलट ब्लीड स्विच बंद करना भूल गए थे। यात्रियों को तकलीफ होने के बाद इसे वापस हैदराबाद में उतारा गया था। जयपुर जा रहे इस विमान में 160 यात्री थे। रेगुलेटर ने फ्लाइट क्रू को 23 सितंबर को शोकॉज नोटिस जारी किया था।

ब्लीड स्विच ऑन करना पायलट की चेक लिस्ट में शामिल

  1. पायलटों से कहा गया कि वे बताएं कि आखिर उनके खिलाफ कोई कार्रवाई क्यों न हो। दरअसल, 14 जून को स्पाइसजेट की फ्लाइट संख्या 341 हैदराबाद से सुबह 5:55 बजे जयपुर के लिए रवाना हुई थी। विमान में हैदराबाद से जयपुर आने वाले 160 यात्री सवार थे। 
  2. तकनीकी खराबी का हवाला देकर विमान को करीब एक घंटे बाद वापस हैदराबाद में उतारा गया था। इस दौरान यात्रियों को विमान में सांस लेने में परेशानी हो रही थी। विमान के दोनों पायलट विमान के एयरबॉर्न होने के बाद विमान का ब्लीड स्विच ऑन करना भूल गए, जबकि यह पायलटों की चेक लिस्ट में शामिल होता है।
  3. जांच में चौंकाने वाली बात सामने आईडीजीसीए ने इस घटना की जांच के आदेश दिए थे। जांच पूरी हुई तो चौंकाने वाली बात सामने आई। विमान के दोनों पायलट विमान का ब्लीड स्विच ऑन करना ही भूल गए थे। ब्लीड स्विच विमान के अंदर एयर प्रेशर को मेंटेन करने के लिए लगाया जाता है। इससे यात्रियों को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन भी मिलती रहती है।
  4. ब्लीड स्विच को केबिन में एयर प्रेशर सामान्य रखने के लिए एक्टिवेट करना होता है। इसके ऑन न होने पर यात्रियों को ब्लीडिंग तक की समस्या हो सकती है। ऑक्सीजन की मात्रा पर्याप्त बनाए रखने के लिए इस स्विच को दबाना जरूरी होता है। हवा में ऊपर जाने पर हर सांस में हमारे अंदर औसत से कम ऑक्सीजन आती है। ऐसे में ब्लीड स्विच के जरिए इसे मेंटेन किया जाता है।
  5. सुबह करीब 6:15 बजे विमान के पायलट को गड़बड़ी का अहसास हुआ। कई यात्रियों को सांस लेने में परेशानी हुई, जिसकी शिकायत उन्होंने केबिन क्रू से की। विमान में वजन ज्यादा था, इसलिए तुरंत लैंडिंग नहीं करवाई गई। करीब 20 मिनट तक विमान आसमान में चक्कर लगाकर फ्यूल बर्न करता रहा। सुबह 6:45 बजे विमान को वापस हैदराबाद में लैंड करवाया गया।
  6. यात्रियों को 11 घंटे इंतजार करवायाइसके बाद एयरलाइन दूसरे विमान का इंतजाम नहीं कर सकी। सुबह की फ्लाइट को शाम 5:25 बजे हैदराबाद से रवाना किया। शाम को फ्लाइट एसजी-341 हैदराबाद से दूसरे विमान वीटी-एसजीजैड से संचालित हुई थी। ऐसे में आमतौर पर हैदराबाद से फ्लाइट सुबह 7:55 बजे जयपुर पहुंचती है जबकि 14 जून को फ्लाइट शाम 7 बजे जयपुर पहुंची। इस फ्लाइट से जयपुर आने वाले यात्रियों को 11 घंटे इंतजार करना पड़ा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.