लखनऊ-दिल्ली के बीच शुरू हुई देश की पहली प्राइवेट ट्रेन Tejas Express- जानिए स्टॉपेज, किराए से लेकर सबकुछ

0
132

नई दिल्ली: देश की कॉर्पोरेट सेक्टर की पहली ट्रेन तेजस एक्सप्रेस के लिए अब इंतजार खत्म हो गया है. देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस को लखनऊ जंक्शन (पूर्वोत्तर रेलवे) से यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. ये ट्रेन लखनऊ-दिल्ली-लखनऊ के बीच चलेगी. सप्ताह में 6 दिन चलने वाली तेजस एक्सप्रेस का संचालन और टिकटिंग का सारा ज़िम्मा आईआरसीटीसी के पास है.

किराया
तेजस एक्सप्रेस में लखनऊ से नई दिल्ली की टिकट की कीमत एसी चेयर कार के लिए 1,125 रुपये और एक्जीक्यूटिव चेयर कार के लिए 2,310 रुपये होगी. लखनऊ से कानपुर के लिए एसी चेयर कार का टिकट 320 रुपये का होगा.

रनिंग शेड्यूल
ये ट्रेन हफ्ते में 6 दिन चलेगी. मंगलवार को इसका संचालन नहीं होगा. लखनऊ से सुबह 6.10 बजे चलकर तेजस दोपहर 12.20 बजे दिल्ली पहुंचेगी और दिल्ली से 3.35 बजे चलकर ये 10.10 बजे रात को लखनऊ पहुंच जाएगी. हफ्ते में एक दिन ट्रेन की बोगियों का मेंटेनेंस होगा. आईआरसीटीसी तेजस के लिए एक दिन का रेलवे को 12 लाख रुपये दे रही है. यह कानपुर और गाजियाबाद में रूकेगी.

क्या है सुविधाएं
तेजस एक्सप्रेस की ख़ासियतों की बात करें तो शताब्दी से थोड़ी ज़्यादा सुविधा इसमें दी गई है. इसमें एक्ज़ीक्यूटिव और चेयर क्लास श्रेणी की बोगियां हैं. एक्ज़ीक्यूटिव क्लास की एक बोगी में 52 और चेयर कार की बोगी में 78 सीटें लगाई गई है. लेदर की सीट आरामदायक है. साथ ही विमान जैसी सुविधा देने के लिए सीटों के ऊपर रीडिंग लाइट और अटेंडेंट कॉल बटन दिया गया है. हर बोगी में तैनात ट्रेन हॉस्टेस बटन दबाने पर आपके पास आएंगी. पढ़ने के लिए रीडिंग बटन दबाकर आप बिना किसी और को डिस्टर्ब किये किताबें पढ़ सकते हैं. सीटें रेकलाइनिंग हैं, यानी आप अपनी सुविधा के मुताबिक़ सीट गिरा सकते हैं. बोगी में दोनों तरफ सीसीटीवी कैमरा सुरक्षा के लिहाज़ से लगाये गए हैं. खिड़कियों का साइज़ थोड़ा बड़ा दिया गया है. साथ ही खिड़कियों के पर्दे ऑटोमैटिक हैं. बटन दबाकर आप खिड़कियों को उठा या गिरा सकते हैं.

ऑनबोर्ड मर्चेंडाइज़, टैक्सी और होटल बुकिंग सुविधा भी जल्द होगी शुरू
तेजस एक्सप्रेस के अधिकारियों का दावा है कि आने वाले दिनों में ऑनबोर्ड मर्चेंडाइज़, टैक्सी और होटल बुकिंग सुविधा भी शुरू की जाएगी. हालांकि अभी की बात करें तो ऑनबोर्ड एटीएम की सुविधा रेल के अंदर दी जा रही है. इसमें कोई एटीएम मशीन नहीं बल्कि स्वाइप मशीन की सुविधा है. इसके तहत आईआरसीटीसी का एक कर्मचारी हाथ में स्वाइप मशीन लेकर यात्री की कॉल पर उसकी सीट पर आएगा और जितने रुपये वो मशीन में स्वाइप करेगा, उतने रुपये कैश उसे दे दिया जाएगा.

लेट होने पर रिफंड
भारतीय रेल अपनी लेट लतीफी के लिए बदनाम है. ऐसे में तेजस एक्सप्रेस लोगों के बीच समय से यात्रा की एक नई उम्मीद है.ट्रेनों की लेट लतीफी की देखते हुए इस ट्रेन में यात्रियों को मुआवज़े का प्रावधान रखा गया है. इस ट्रेन का संचालन करनी वाली आईआरसीटीसी ने दावा किया है कि अगर तेजस एक्सप्रेस एक घंटे से ज़्यादा देर से पहुंची तो 100 रुपये और 2 घंटे से ज़्यादा देर से पहुंची तो 250 रुपये तक का रिफंड यात्रियों को दिया जाएगा. साथ ही मुफ़्त में यात्रियों को 25 लाख रुपये तक का यात्रा बीमा भी दिए जाने की व्यवस्था की गई है. इन सबके ज़रिए आईआरसीटीसी यात्रियों को अपनी तरफ आकर्षित करने की कोशिश करेगी.

रिफंड पर स्थिति साफ नहीं
तेजस में रिफंड को लेकर एक सवाल ज़हन में यह आता है कि क्या ट्रेन लेट होने पर आईआरसीटीसी ख़ुद रिफंड दे देगी या फिर यात्री को क्लेम करना होगा. ऐसे में यह साफ करना ज़रूरी है कि तेजस का टिकट सिर्फ आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर ही बुक किया जा सकता है. इसके लिए काउंटर टिकट का विकल्प नहीं दिया गया है.

इस ट्रेन के उद्घाटन के मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लखनऊ स्टेशन पर थे. उद्घाटन के दौरान ब्राह्मणों ने मंत्रोच्चार किया. साथ ही एक बैंड पार्टी स्टेशन पर यात्रियों का स्वागत कर रही थी. हर कोच में तैनात अटेंडेंट दरवाज़े पर यात्रियों का स्वागत कर रही थीं. साथ ही आईआरसीटीसी के वरिष्ठ अधिकारी भी ट्रेन में यात्रियों से सुविधाओं पर अपडेट लेते रहे.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि देश की पहली प्राइवेट ट्रेन की शुरुआत लखनऊ से दिल्ली के बीच होने के लिए पीएम मोदी और रेल मंत्री पीयूष गोयल को धन्यवाद देता हूं. मोबाइल के पहले महंगे होने और बाद में सस्ते होने से आम आदमी का मोबाइल इस्तेमाल करने का और विमान सेवा में निजी कंपनियों के आने का उदाहरण देते हुए योगी ने कहा कि स्वस्थ प्रतिस्पर्धा की वजह से बेहतर सुविधा मिल पाई. पीएम मोदी का कहना है कि हवाई चप्पल पहनने वाला भी हवाई यात्रा कर सके, ऐसे करने के लिए स्वस्थ प्रतिस्पर्धा ज़रूरी है. लखनऊ से दिल्ली आने जाने में आने वाली समस्या को देखते हुए तेजस की शुरुआत इस समस्या को ख़त्म करने का काम करेगी.


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.