पाकिस्तान डिप्लोमेटिक मिशनों के जरिए भारत में आतंकी गतिविधियों के लिए नकली नोट भेज रहा

0
126

लंदन. 8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी के जरिए आतंकी गतिविधियों पर लगाम कसने की पहल की थी। लेकिन अब पाकिस्तान ने इसका भी तोड़ निकाल लिया है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान बेहतर गुणवत्ता वाले नकली भारतीय करंसी नोट (एफआईसीएन) भारत भेज रहा है, ताकि लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे गुट इसका इस्तेमाल आतंकी गतिविधियों में कर सकें। भारत में नकली नोट भेजने के लिए पाकिस्तान नेपाल, बांग्लादेश समेत अन्य देशों में स्थित अपने डिप्लोमेटिक चैनल्स का इस्तेमाल कर रहा है।   

न्यूज एजेंसी के मुताबिक, वरिष्ठ अधिकारियों ने खुलासा किया है कि पाकिस्तान की तरफ से बड़ी मात्रा में ये नकली करंसी भारत में 2016 के पहले रहे सिस्टम का इस्तेमाल कर भेजी जा रही है। भारत में नकली नोट प्रवेश कराने के लिए पाकिस्तान की कई गैंग्स, उनका पूरा तंत्र लगा हुआ है। सूत्रों के मुताबिक- पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई न केवल नकली नोट बनवा रही है, बल्कि इस बात की तस्दीक कर रही है कि उनकी क्वालिटी भी बेहतर हो। 

नेपाल से पाकिस्तान का गैंगस्टर गिरफ्तार
भारत में वांछित आतंकी दाऊद इब्राहिम की गैंग से जुड़े एक अपराधी यूनुस अंसारी को इसी साल मई में पाकिस्तान के 3 नागरिकों के साथ गिरफ्तार किया गया था। इसके पास से 7.67 करोड़ रुपए की भारतीय मुद्रा भी बरामद हुई थी। अंसारी को पैसों की खेप पाकिस्तान के स्मगलर रज्जाक मरफानी द्वारा भिजवाई गई थी। कुछ साल पहले भी अंसारी को काठमांडू में गिरफ्तार किया गया था। उस पर एक भारतीय राजनयिक पर हमले की साजिश रचने का आरोप था।

बांग्लादेश तक फैले तार
25 सितंबर को ढाका पुलिस ने करीब 49 लाख रुपए के नकली नोट बरामद किए। दुबई के एक व्यक्ति सलमान शेरा ने बांग्लादेश के सिलहट में कोरियर से एक पार्सल भेजा था। आशंका जताई गई थी कि इस पार्सल को ढाका के श्रीनगर भेजा जाना था। अफसरों का कहना है कि सलमान शेरा आईएसआई के लिए नकली नोटों की हेराफरी करने वाले असलम शेरा का बेटा है। सलमान इस धंधे में 1990 के दशक से सक्रिय है।

भारत में पाकिस्तानी ड्रोन से हथियार भिजवाए जा रहे
पंजाब के पुलिस प्रमुख दिनकर गुप्ता ने 24 सितंबर को बताया था कि पाक से 9-16 सितंबर के बीच करीब 8 चीनी ड्रोन के जरिए 80 किलो विस्फोटक सामग्री पंजाब और जम्मू-कश्मीर भेजी गई। पाक के आतंकी संगठन पंजाब और जम्मू-कश्मीर में बड़े धमाकों की साजिश रच रहे हैं। इसके लिए पाक सेना और आईएसआई आतंकी संगठन खालिस्तान जिंदाबाद फोर्स (केजेडएफ) का समर्थन कर रही है। 22 सितंबर को पंजाब के तरनतारन से केजेडएफ के 4 सदस्य गिरफ्तार किए गए थे। इनमें से एक आतंकी आकाशदीप की निशानदेही पर ड्रोन बरामद किया गया था। इनके पास से 10 लाख के नकली नोट, 5 एके-47 राइफलें, 5 सैटेलाइट फोन और 9 हेंड ग्रेनेड भी बरामद किए गए थे।

वहीं, 7 अक्टूबर को पंजाब में सीमा से सटे फिरोजपुर हुसैनीवाला चैकपोस्ट पर पाकिस्तान का एक ड्रोन देखा गया था। बीएसएफ के सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तानी ड्रोन को 5 बार सीमा पर देखा गया। इसमें एक बार यह भारतीय सीमा में भी घुसते हुए नजर आया। अफसरों ने आशंका जताई थी कि पाकिस्तान का ड्रोन भारत की सीमा पर जासूसी करने आया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.