PM मोदी को लिखे ओपन लेटर पर 49 हस्तियों पर दर्ज हुई थी FIR, अब 180 शख्सियतों ने दर्ज की आपत्ति

0
153

बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मॉब लिचिंग को लेकर जिन 49 मशहूर हस्तियों ने पत्र लिखा था, जिसके बाद इन हस्तियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई. अब इसी मामले को लेकर 180 अन्य मशहूर हस्तियां इस फैसले के खिलाफ आगे आई हैं.  इनमें मशहूर अभिनेता नसीरुद्दीन शाह से लेकर इतिहासकार रोमिला थापर तक शामिल हैं.

इन सेलेब्स भी एक ओपन लेटर जारी किया है जिसपर सभी ने हस्ताक्षर किए हैं. सोमवार को रिलीज किए हए ओपन लेटर में इन हस्तियों ने सवाल उठाया है कि प्रधानमंत्री को एक खुला खत लिखना देशद्रोह कैसे हो सकता है?

लेटर में लिखा गया है, हमारे ही 49 साथियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. उन पर ये मामला सिर्फ इसलिए दर्ज किया गया क्योंकि उन्होंने समाज का एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते अपनी चिंताएं व्यक्त की और आवाज उठाई. देश में लगातार हो रही मॉब लिंचिंग को लेकर चिंता व्यक्त करना गलत कैसे है?

आपको बता दें कि बिहार के मुजफ्फरपुर में श्याम बेनेगल और 48 अन्य हस्तियों के खिलाफ 3 अक्टूबर को एफआईआर दर्ज की गई. जिन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज हुआ है उनमें अनुराग कश्यप, अपर्णा सेन, मणिरत्नम, अडूर गोपालकृष्णन, सौमित्र चटर्जी, शुभा मुद्गल और इतिहासकार रामचंद्र गुहा भी शामिल हैं.

इस मामले को लेकर श्याम बेनेगल ने कहा, ‘‘ यह पत्र महज एक अपील थी. लोगों का इरादा जो भी हो, जो प्राथमिकी स्वीकार कर रहे हैं और हम पर इस तरह के आरोप लगा रहे हैं, इन बातों का कोई मतलब नहीं बनता है. यह प्रधानमंत्री से अपील करने वाला पत्र था. यह कोई धमकी या अन्य बात नहीं थी, जो शांति बिगाड़ती या समुदायों के बीच वैमनस्य पैदा करती है.’’

हालांकि एनडीटीवी से बात करते हुए बिहार पुलिस चीफ ने ये आश्वासन दिया है कि इस मामलों को चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट के कहने पर रजिस्टर किया गया है. इस मामले की जांच निष्पक्षता से की जाएगी और मामले को लेकर घबराने जैसा कुछ नहीं है.

गौरतलब है कि पत्र में कहा गया था कि मुसलमानों, दलितों और अन्य अल्पसंख्यकों को भीड़ द्वारा पीट पीटकर हत्या करना तत्काल रुकना चाहिए. बिना असंतोष के लोकतंत्र नहीं होता है. जयश्रीराम भड़काऊ नारा हो गया है.


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.