अयोध्या में राममंदिर पर धार्मिक सद्भाव के लिए मोर्चा संभालेंगे भाजपा के मुस्लिम नेता

0
140

नई दिल्ली,  राममंदिर फैसले पर धार्मिक सद्भाव बनाए रखने के लिए अब भाजपा के मुस्लिम नेता मोर्चा संभालेंगे। उनका बखूबी साथ मुस्लिम राष्ट्रीय मंच (एमआरएम) के पदाधिकारी भी देंगे। दोनों के समन्वय से देश की गंगा-यमुना तहजीब का ताना-बाना मजबूत करने पर जोर दिया जाएगा। इसे लेकर शनिवार देर रात तक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के शीर्ष पदाधिकारियों के साथ ही भाजपा के वरिष्ठ व प्रदेश के मुस्लिम नेताओं और एमआरएम के पदाधिकारियों के साथ मैराथन बैठक हुई।

इसमें इसके लिए चार केंद्रीय समितियों का गठन भी किया गया, जो दूसरे धर्म के लोगों से संवाद बढ़ाने के साथ पूरे अभियान का नेतृत्व करेगा। बैठक में सह सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्णगोपाल, सह संपर्क प्रमुख रामलाल व एमआरएम के मार्गदर्शक इंद्रेश कुमार मौजूद रहे। इसी तरह केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, भाजपा के वरिष्ठ नेता शाहनवाज हुसैन, शाजिया इल्मी, भाजपा अल्पसंख्यक माेर्चा के अध्यक्ष अब्दुल रशीद अंसारी, अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष सैयद गैरूल हसन रिजवी, एमआरएम के अध्यक्ष अफजाल अहमद व प्रवक्ता यासिर जिलानी समेत कमोबेश सभी प्रदेशों के भाजपा मुस्लिम मोर्चा व एमआरएम के पदाधिकारी भी शामिल रहे। बैठक में शामिल रहे लोगों की संख्या 100 से अधिक रही।

सुप्रीम कोर्ट से 17 नवंबर के पहले तक राममंदिर पर फैसला आने की उम्मीद है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की पूरजोर कोशिश है कि फैसला जो भी आएं, पर उसकी वजह से देश का माहौल खराब न हो। इसी को लेकर दिल्ली के छतरपुर में संघ परिवार की तीन दिवसीय शीर्ष बैठक चली और उसमें इस बात पर जोर दिया गया कि फैसले को जीत-हार के रूप में नहीं देखा जाएगा। जो फैसला आएगा उसे सभी को खुलेमन से स्वीकार करना चाहिए। निर्णय के पश्चात देश का वातावरण सौहार्दपूर्ण रहे। इसके लिए जीत या हारने पर कोई जुलूस नहीं निकाला जाएगा।

गौरतलब है कि अयोध्या में राम मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मद्देनजर देशभर में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की जा रही है। यूपी के तकरीबन सभी जिलों में अतिरिक्त सुरक्षा बल तैनात किए जा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.