Film Released ( Halala A Curse ) इश्क का क़त्ल करता तलाक़

0
265

फिल्म की पटकथा मुस्लिम समाज के एक प्रथा पर आधारित है जो की वास्तविकता में एक प्रेम कथा पर समर्पित है और काल्पनिक है | इस फिल्म के डायरेक्टर और लेखक प्रांजल सिंह हैं और फिल्म प्रोड्यूसर नमिता चौबे हैं | नमिता चौबे ने इस फिल्म को सफलतम फिल्म बनाने का पूरा सहयोग दिया चाहे वो आर्थिक सहयोग हो या युवाओं को निजी जीवन में परेशानियों को दूर करने और सक्षम बनने में हो, उनका मानना है की महिलाओं के समस्याओं, सशक्तिकरण और सुरक्षा पर आधारित फिल्म बनाने के हमेशा उत्साहित और तत्पर रहती हैं इसलिए इस फिल्म को बनाने में अपना दिलचस्पी दिखाई |

वो ना सिर्फ युवाओं के फिल्म के निर्देशक हैं बल्कि युवाओं को प्रोत्साहन और मार्गदर्शन भी किया| इस फिल्म से जुड़े सभी युवा उनके साथ काम करके काफी खुश और संतोषजनक हैं | युवाओं का मानना है की ऐसी आशावादी और ममतामयी महिला के साथ काम करके उन्हें बहुत अच्छा और यादगार अनुभव प्राप्त हुआ | उनके साथ भविष्य में फिर से काम करने की इच्छा रखते हैं | इस फिल्म में एक जानेमाने मशहूर बॉलीवुड अभिनेता जोय सेनगुप्ता हैं वो बहुत से बंगाली फिल्म और थिएटर जगत में भी मशहूर और सक्रीय हैं |

वो हेट स्टोरी जैसी बॉलीवुड फिल्म में भी काम कर चुके हैं| बहुत से मशहूर हॉलीवुड फिल्मो में जैसे कैप्टेन अमेरिका और अवेंजर्स के सीरीज में , एंट मैन ,स्पाइडर मैन फिल्मों में एक्टर क्रिस इवांस के संवाद का हिंदी भाषा में डबिंग आर्टिस्ट के रूप में काम कर चुके हैं| अभिनेता जोय सेनगुप्ता का कहना है की इस फिल्म की कहानी बहुत रोचक और सामाजिक मुद्दों पर है, और एक युवा डायरेक्टर के साथ काम करने का बहुत अच्छा अनुभव रहा |

प्रांजल सिंह का यह चालीसवां शार्ट फिल्म है , उनकी एक अलग पहचान है वो सामाजिक विषयों और समस्याओं पर फिल्म बनाने के लिए जाने जाते हैं | पटना से मुंबई आने का उद्देश्य हमेशा से सामाजिक मुद्दों पर फिल्म बनाने का रहा है ताकि लोगो को फिल्म के जरिये जागरूक कर सके | उन्होंने बूढ़े लोगों और महिलाओं पर भी फिल्म बनाया हैं | इस फिल्म को बनाने के लिए फिल्म डायरेक्टर प्रांजल सिंह ने इस प्रथा के हर पहलु को बहुत बारीकी से अध्ययन करके इस फिल्म को प्रस्तुत किया है | उनकी फिल्म हलाला ईआईपीएल प्रोडक्शन बैनर के अंडर बन रही है | राजनितिक और मीडिया क्षेत्र में बीते कुछ सालों से तीन तलाक़ , हलाला और बहुविहाह एक बहुचर्चित संवेदनशील विषय रहा है इसलिए यह फिल्म वर्तमान समय में बहुत मायने रखता है | फिल्म डायरेक्टर प्रांजल सिंह का कहना है की उन्होंने यह फिल्म अपने गुरू राजीव रंजन चौबे के मार्गदर्शन और प्ररेणा से बनाया है और अपने गुरुजी को ही इस फिल्म का श्रेय देते हैं | उनके गुरूजी ने कहानी के हर मोड़ पर और हर सीन पर उन्होंने मार्गदर्शन किया और कहानी उत्कृष्ट बनाया | गुरूजी ने इस फिल्म से जुड़े हर क्षेत्र के युवाओं को उनके गुण क्षमता को परखा और निखारने का सहयोग और समर्थन किया , हर युवा के काम को निरंतर निरिक्षण और अवलोकन किये हैं और काम को सुनियोचित रूप से पूर्ण होने पर युवाओं का सराहना करके मनोबल बढ़ाते रहे हैं |

वो हर महत्वाकाँक्षी युवाओं को अपना पूरा आगे बढ़ाने में और सहयोग करने के लिए प्रतिबद्ध हैं | पटना की रहने वाली मशहूर अभिनेत्री समिधा भी इस फिल्म में हैं उन्होंने कई सालों से मुंबई में रहकर कई गवर्नमेंट प्रोजेक्ट, कमर्शियल और फीचर फिल्म में काम करके नाम कमाया है | चूँकि यह फिल्म हलाला पर आधारित है तो एक मौलवी का किरदार होना लाज़मी है और यह बहुत ही रुचिकर बात है की इस फिल्म में मौलवी का किरदार निभाने वाले शख्स महबूब खान असल जिंदगी में भी मौलवी हैं | मोहम्मद अतीक ने इस फिल्म का स्क्रिप्ट लिखा है | मौलवी महबूब खान और मोहम्मद अतीक का कहना है की हलाला एक प्रथा नहीं है बल्कि एक सामाजिक दंड है, तीन तलाक़ को बेहद कठिन और दंडनीय बनाने के लिए हलाला का प्रावधान किया गया है | उनका मानना है की हलाला को इस फिल्म में बहुत अच्छे से दर्शाया गया है इसके नियमों को , रिश्तों में आते कड़वाहट को , और हलाला से एक परिवार पर क्या असर होता है इन सभी पहलुओं को खूबसूरत ढंग से दिखाया गया है | इस फिल्म के सारे सीन मुंबई में फिल्माया गया है |

डबिंग आर्टिस्ट श्रीकांत राव ने तक़रीबन पांच किरदारों को अपनी आवाज देकर एक अहम् भूमिका निभाया है और भी डबिंग आर्टिस्ट हैं जैसे की हुसैन अहमद, वीनू और स्वंय समिधा और जॉय सेनगुप्ता हैं | असिस्टेंट डायरेक्टर तुषार कांत हैं जो पेशे से वकील भी हैं | इस फिल्म में प्रोडक्शन मैनेजर अमित कुमार , आशीष जोशुआ गायक हैं, वेधा प्रोडक्शन की भारती एडिटर हैं, परिमल पंत और शिवम् पंत संगीतकार हैं, म्यूजिक डायरेक्टर सौम्यशील मालवीय हैं और डीओपी जयमिल खलस ने किया है| इस फिल्म का गीतकार स्वंय प्रांजल सिंह हैं उन्होंने स्क्रीनप्ले भी लिखा है | साउंड और लाइन प्रोडक्शन प्रांजल सिंह के निजी प्रोडक्शन हाउस वनक्लिक प्रोडक्शन ने किया है | ग्राफ़िक्स डिज़ाइनर रानू कुमार हैं और डीआई कलर और ग्राफ़िक्स का काम प्रणव पटेल ने किया है | संक्षेप में यह कहा जा सकता है की इन महत्वाकांक्षी और कर्मठ युवा पीढ़ियों का आपसी तालमेल से बना यह फिल्म बहुत दिलचस्प रहेगा |  


कास्ट : जॉय सेनगुप्ता, समीधा , महबूब खान 

गायक : आशीष जोशुआ 

संगीतकार : परिमल पंत 

संगीत निर्देशन : सौम्यशील मालवीय 

गीतकार : प्रांजल सिंह 

म्यूजिक स्टूडियो : एस्क्वायर

 स्क्रिप्ट :मोहम्मद अतीक

 संकल्पना, स्क्रीनप्ले , संवाद: प्रांजल सिंह

 डीओपी : जयमिल खलस 

फोकस पुलर :अक्षय सरोदे 

असिस्टेंट डायरेक्टर : तुषार कांत 

प्रोडक्शन मैनेजर : अमित कुमार 

एडिटर :भारती , वेधा प्रोडक्शन 

डीआई कलर एंड ग्राफ़िक्स :प्रणव पटेल 

ग्राफ़िक्स डिज़ाइनर : रानू कुमार

 साउंड : वनक्लिक प्रोडक्शन

 लाइन प्रोडक्शन : वनक्लिक प्रोडक्शन 

डबिंग आर्टिस्ट : हुसैन अहमद , श्रीकांत राव , वीनू, समिधा, जॉय सेनगुप्ता

 डबिंग स्टुडिओ : सिटी २ 

साउंड रिकार्डिस्ट : संदीप डांगे 

बैकग्राउंड म्यूजिक एंड मिक्सिंग : जनक ठाकुर , बीजीएम  स्टूडियो 

लाइटमैन : प्रकाश ररेडेकर , सुनील सोलकर 

कैमरा असिस्टेंस :आदिल 

मेक अप आर्टिस्ट : मुना बेहरा

 हेयर स्टाइलिस्ट : पवन 

प्रोडक्शन :  EPIL प्रोडक्शनप

प्रोड्यूसर : नमिता चौबे 

डायरेक्टर : प्रांजल सिंह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.