जानें- JNU में किस फीस में की गई है कितनी बढ़ोतरी, जो है छात्रों के प्रदर्शन की मुख्य वजह

0
32

नई दिल्ली: देश की प्रसिद्ध यूनिवर्सिटी जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में छात्र और प्रशासन आमने-सामने हैं. विश्वविद्यालय के छात्र फीस वृद्धि और ड्रेस कोड जैसी पाबंदियों के विरोध में यूनिवर्सिटी प्रशासन के खिलाफ लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं. छात्रों की मांग है कि विश्वविद्यालय ने फीस में जो बढ़ोतरी की है उसे तत्काल वापस लिया जाए.

फीस में की गई है बढ़ोतरी

                                                                                   पहले      अब

वन टाइम मेस सिक्योरिटी चार्ज (रिफंडेबल)-                  5500रुपये  12हजार रुपये

सर्विस चार्ज                                                                    0            1700 रुपये/महीने

यूटिलिटी चार्ज                                                               0            इस्तेमाल के हिसाब से

रूम रेंट (सिंगल)                                                      20 रुपये/महीने  600 रुपये/महीने

रूम रेंट (डबल)                                                      10 रुपये/महीने 300 रुपये/महीने
इस्टेबलिशमेंट चार्ज                                                  1100 रुपये            1100 रुपये
मेस बिल                                                                   एज पर यूजेज         एज पर यूजेज

छात्र इन्हीं फीस में बढ़ोतरी से उग्र हैं और प्रदर्शन कर रहे हैं. छात्रों के प्रदर्शन के कारण सोमवार को मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को भी परेशानी का सामना करना पड़ा. गौरतलब है कि जेएनयू के तीसरे दीक्षांत समारोह में शिरकत करने उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और एचआरडी मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक सोमवार को जेएनयू आए थे. इस दौरान छात्रों ने रमेश पोखरियाल निशंक को कई घंटों तक ऑडिटोरियम से निकलने नहीं दिया.

छात्रों की मांग थी कि जब तक यूनिवर्सिटी के कुलपति छात्रों से नहीं मिलते हैं तब तक वह मंत्री को जाने नहीं देंगे. बाद में जेएनयूएसयू के पदाधिकारियों ने मंत्री से मुलाकात की. इसके बाद मंत्री ने आश्वासन दिया कि छात्रों की मांगों पर गौर किया जायेगा. इसके बाद एचआरडी मंत्री जेएनयू से बाहर निकल पाए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.