दिल्ली में प्रदूषण को लेकर सरकार लापरवाह, संसदीय स्थाई समिति की बैठक में 29 में से सिर्फ 4 सदस्य पहुंचे

0
119

नई दिल्लीः दिल्ली में प्रदूषण से लोगों का बुरा हाल है लेकिन इसको लेकर सरकार का रुख कितना लचर है इसकी बानगी आज संसदीय स्थाई समिति की बैठक देखने को मिली. इस मामले को देख रहे कई बड़े अधिकारी बैठक में नहीं पहुंचे. शहरी विकास मंत्रालय से जुड़ी संसदीय स्थाई समिति की बैठक में आज शहरी विकास मंत्रालय के सचिव के अलावा पर्यावरण मंत्रालय के सचिव , दिल्ली विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष और दिल्ली के तीनों नगर निगमों के आयुक्तों को भी बुलाया गया था.

इसके अलावा एनडीएमसी के चेयरमैन और दिल्ली कैंटोनमेंट बोर्ड के अध्यक्ष को भी तलब किया गया था लेकिन समिति की बैठक में पर्यावरण मंत्रालय , डीडीए और तीनों नगर निगमों का कोई बड़ा अधिकारी नहीं पहुंचा. उनकी जगह पर्यावरण मंत्रालय की ओर से एक उपसचिव स्तर का अधिकारी ही बैठक में पहुंचा. शहरी विकास मंत्रालय के सचिव भी नहीं पहुंचे लेकिन सूत्रों ने एबीपी न्यूज़ को बताया कि सचिव ने अनुपस्थित रहने की जानकारी पहले ही दे दी थी और उनकी जगह अतिरिक्त सचिव स्तर का अधिकारी बैठक में पहुंचा था.

समिति के अध्यक्ष ने जताई नाराज़गी, लगाई लताड़
सूत्रों के मुताबिक अधिकारियों के इस लचर रवैये से नाराज समिति के अध्यक्ष जगदम्बिका पाल ने उनकी जगह आए अधिकारियों को जमकर लताड़ लगाई. पाल ने इन अधिकारियों से पूछा कि एक संवेदनशील और अहम मसले पर क्या ये रवैया ठीक है. सूत्रों के मुताबिक पाल के अलावा कई अन्य सदस्यों ने भी संसदीय समिति के प्रति अधिकारियों के ऐसे रवैये पर कड़ी नाराजगी जताई. अधिकारियों की अनुपस्थिति से नाराज़ समिति की बैठक बीच में ही खत्म करने का फ़ैसला लिया गया. समिति की अगली बैठक 20 नवम्बर को हो सकती है.

केवल 4 सदस्य बैठक में पहुंचे
प्रदूषण को लेकर माननीय सांसदों की भी रुचि कितनी है इसका अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि समिति में शामिल 29 सदस्यों में से केवल 4 सदस्य बैठक मौजूद थे. जो सदस्य मौजूद थे उनमें समिति के अध्यक्ष जगदम्बिका पाल , संजय सिंह, सी आर पाटिल और हुसैन मसूदी शामिल हैं. ताज्जुब की बात ये है कि समिति के सदस्य गौतम गम्भीर जो खुद पूर्वी दिल्ली के सांसद हैं , बैठक में नहीं पहुंचे.

लोकसभा अध्यक्ष से शिकायत करेगी समिति
एबीपी न्यूज़ को समिति के एक सदस्य ने बताया कि अधिकारियों के एक लचर रवैये का मसला लोकसभा अध्यक्ष के सामने उठाया जाएगा. समिति की ओर से लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला को जल्द ही इस बारे में एक पत्र भी लिखे जाने की संभावना है.

जिन चार सांसदों ने बैठक में शिरकत की उनमें अध्यक्ष जगदंबिका पाल, अनंतनाग से नेशनल कांफ्रेस के सासंद हुसैन मसूदी, लोकसभा नवसारी से बीजेरी सासंद सीआर पाटिल और दिल्ली से राज्यसभा के सदस्य संजय सिंह पहुंचे थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.