57 साल के हुए 5 फिल्में बनाकर 11 फिल्मफेयर अवॉर्ड जीतने वाले राजकुमार हिरानी, जानें उनसे जुड़ी ये खास बातें

0
167

नई दिल्ली: 14 साल की उम्र थी, नाम राजू था, सपना हीरो बनने का था. लेकिन पिता का सपना उन्हें सीए बनाने का था. लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था. किसे मालूम था कि यह बच्चा बड़ा होकर राजकुमार हिरानी बनेगा और भारतीय सिनेमा की दिशा को ही मोड़ देगा.

राजू से राजकुमार हिरानी बनने के लिए राजकुमार ने कड़ा संषर्घ किया. तपने के बाद के ही सोना कुंदन बनता है इस कहावत को राजुकमार ने सच साबित कर दिया. 20 नवंबर 1962 को नागपुर में पैदा हुए राजकुमार के इरादे मजबूत थे. राजकुमार हिरानी ने अपना फिल्मी कैरियर 1993 में शुरू किया. 26 साल के अपने फिल्मी कैरियर में उन्होंने पांच फिल्में ही बनाईं. लेकिन इन पांचों फिल्मों ने सिल्बर स्क्रीन पर जो कीर्तिमान स्थापित किए वे आज भी लोगों को हैरान करते हैं. इन्होंने जितनी भी फिल्में बनाईं वे सभी ब्लॉकबस्टर साबित हुईं.

राजकुमार हिरानी बचपन में हीरो बनने का सपना देखते थे. पढ़ाई के दौरान ही उनकी दिलचस्पी थियेटर की तरफ हुई. कॉमर्स में स्नातक करने के बाद उन्हें किसी ने फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट पुणे में प्रवेश लेने की सलाह दी. राजकुमार ने इस संस्थान में दाखिला ले लिया. यहां पढ़ाई करने के दौरान ही इन्हें लगा कि वे हीरो बनने के लिए नहीं किसी और काम के लिए बने हैं. कोर्स में बदलाव करते हुए राजकुमार ने एडिटिंग की पढ़ाई शुरू कर दी. यहीं से उन्हें फिल्में बनाने की प्रेरणा मिली और फिर वे इसी दिशा में बढ़ते चले गए. एफटीआईआई से निकलने के बाद इन्होंने एड कंपनी खोली. अपने काम से जल्द ही वे विज्ञापन के क्षेत्र में लोकप्रिय हो गए. फेवीकॉल का चर्चित विज्ञापन बनाया, जिसमें वे स्वयं भी नजर आए थे.

इसके बाद फिल्मी सफर शुरू हुआ. 1994 में ‘1942 ए लव स्टोरी’, और 1998 में ‘करीब’ के प्रोमो बनाने की जिम्मेदारी इन्हें मिली. वर्ष 2000 में ‘मिशन कश्मीर’ और 2001 में फिल्म ‘तेरे लिए’ की लिए एडिटिंग की. उनके इस काम भी खूब सराहना हुई.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.